DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

निपाह वायरस को लेकर शाहजहांपुर में भी अलर्ट

निपाह वायरस को लेकर शाहजहांपुर में भी अलर्ट

केरल में फैले निपाह वारयस से हुई मौतों से हड़कंप मचा हुआ है। यूपी सरकार ने भी अलर्ट जारी कर दिया है। शाहजहांपुर जिले का स्वास्थ्य महकमा भी अलर्ट है। डिप्टी सीएमओ डा. लक्ष्मण ने बताया कि निपाह खतरनाक वायरस है। जिला अस्पताल से लेकर सीएचसी-पीएचसी को अलर्ट कर दिया गया है। संक्रमित के मरीजों के लिए आइसोलेशन वार्ड बनाए गए हैं, हालांकि अभी तक इस तरह का कोई भी मरीज नहीं देखा गया।

कोमा में चला जाता है मरीज

यह वायरस संक्रमित व्यक्ति के सीधे संपर्क में आने से फैलता है। फ्रूट बैट प्रजाति के चमगादड़ यह संक्रमण तेजी से फैलाते हैं। इसकी वजह है कि यह एक मात्र स्तनधारी है, जो उड़ सकते हैं। पेड़ पर लगे फलों को खाकर संक्रमित कर देते हैं। जब पेड़ से गिरे संक्रमित फलों को इंसान खाता है तो वह बीमारी की चपेट में आ जाता है। फिलहाल निपाह वायरस से संक्रमण का कोई इलाज नहीं है। एक बार संक्रमण फैल जाने पर मरीज 24 से 48 घंटे तक में कोमा जा सकता है।

===

चमगादड़ और सुअर से फैलता है संक्रमण

फल और सब्जी खाने वाले चमगादड़ और सुअर के जरिए निपाह वायरस तेजी से फैलता है। इसका संक्रमण जानवरों और इंसानों में एक दूसरे के बीच तेजी से फैलता है। इसके वायरस से बचने के लिए सुनिश्चित करें जो आप खाना खा रहे हैं, वह किसी चमगादड़ या उसके मल से दूषित नहीं हुआ हो। चमगादड़ के कुतरे हुए फल न खाएं। बीमारी से पीड़ित किसी भी व्यक्ति से संपर्क न करें। यदि मिलना ही पड़े तो बाद में साबुन से अपने हाथों को अच्छी तरह से धो लें। लक्षण शुरू होने के दो दिन बाद पीड़ित के कोमा में जाने की संभावना बढ़ जाती है। वहीं, इंसेफेलाइटिस के संक्रमण की भी संभावना रहती है, जो मस्तिष्क को प्रभावित करता है।

===

इन बातों पर दें ध्यान

=आमतौर पर शौचालय में इस्तेमाल होने वाली चीजें, जैसे बाल्टी और मग को खास तौर पर साफ रखें।

=निपाह बुखार से मरने वाले किसी भी व्यक्ति के मृत शरीर को ले जाते समय चेहरे को ढकना महत्वपूर्ण है।

=मृत व्यक्ति को गले लगाने से बचें और उसके अंतिम संस्कार से पहले नहाते समय सावधानी बरतें।

लक्षण और बचाव

धुंधला दिखना, चक्कर आना, सिर में लगातार दर्द रहना, सांस में तकलीफ, तेज बुखार आना निपाह वायरस के लक्षण हैं। इसके बचाव के लिए पेड़ से गिरे हुए फल न खाएं, जानवारों के खाए जाने के निशान हों तो ऐसी सब्जियां न खरीदें, जहां चमगादड़ अधिक रहते हों। वहां खजूर खाने से परहेज करें। संक्रमित रोगी जानवरों के पास न जाएं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Alerts in Shahjahanpur on Nipah virus