DA Image
Friday, December 3, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश शाहजहांपुर35 साल के बाद कचहरी परिसर में फिर बहा खून

35 साल के बाद कचहरी परिसर में फिर बहा खून

हिन्दुस्तान टीम,शाहजहांपुरNewswrap
Tue, 19 Oct 2021 03:20 AM
35 साल के बाद कचहरी परिसर में फिर बहा खून

कचहरी न्याय का मंदिर कहा जाता है। जहां पर न्यायिक अधिकारी बैठते हैं। वकील भी होते हैं। यहां पर अपराधियों को सजा मिलती है, पर यह भी सुरक्षित नहीं रह गई। कचहरी परिसर की जमीन पहली बार खून से लाल नहीं हुई, बल्कि यह दूसरा वाक्या है। 35 साल पहले भी कोर्ट के सामने गैंगस्टर को कई गोलियां मारकर मौत के घाट उतार दिया था। तब भी पुलिस की काफी किरकिरी हुई थी।

केस एक-

-35 साल पहले की बात करें तो उस समय भी खूब खून बहा था। तब ऐसी सुरक्षा व्यवस्था और हाईटेक टेक्नोलॉजी नहीं थी। जितनी वर्तमान समय में है। मेटल डिटेक्टर लगे हैं। सीसीटीवी कैमरे से परिसर लैस है। वरिष्ठ अधिवक्ता एजाज हसन खां बताते हैं कि पहला केस पीचू खां के साथ हुआ था। उन्हें कोर्ट परिसर के बाहर ही गोलियां मारी गई थी। पीचू खां अपराधी था और उस पर काफी मुकदमे दर्ज थे। उसकी मौके पर ही मौत हो गई थी।

केस टू-

- करीब 15 साल पहले चाचा-भतीजे भिड़ गए थे। उस समय भी गोली चली थी। लेकिन, इसमें कोई हताहत होने जैसी खबर नहीं आई थी। 35 साल के बाद फिर से अधिवक्ता को गोली मारकर मौत के घाट उतार दिया। जिसके बाद वकीलों में काफी ज्यादा रोष व्याप्त है।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें