DA Image
17 जनवरी, 2020|10:33|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

201 विवाह , दहेज में दिया शौचालय और पौधा

201 विवाह , दहेज में दिया शौचालय और पौधा

1 / 3ओसीएफ रामलीला मैदान मंगलवार को 201 जोड़ों के विवाह का साक्षी बना। जहां एक ओर मंत्रोच्चारण हुए तो दूसरी ओर कलमा पढ़ा गया। इस बीच वर-वधू को दहेज भी दिया...

201 विवाह , दहेज में दिया शौचालय और पौधा

2 / 3ओसीएफ रामलीला मैदान मंगलवार को 201 जोड़ों के विवाह का साक्षी बना। जहां एक ओर मंत्रोच्चारण हुए तो दूसरी ओर कलमा पढ़ा गया। इस बीच वर-वधू को दहेज भी दिया...

201 विवाह , दहेज में दिया शौचालय और पौधा

3 / 3ओसीएफ रामलीला मैदान मंगलवार को 201 जोड़ों के विवाह का साक्षी बना। जहां एक ओर मंत्रोच्चारण हुए तो दूसरी ओर कलमा पढ़ा गया। इस बीच वर-वधू को दहेज भी दिया...

PreviousNext

ओसीएफ रामलीला मैदान मंगलवार को 201 जोड़ों के विवाह का साक्षी बना। जहां एक ओर मंत्रोच्चारण हुए तो दूसरी ओर कलमा पढ़ा गया। इस बीच वर-वधू को दहेज भी दिया गया, लेकिन उसमें हीरे-जवाहरात या बंगला नहीं शौचालय और आम का पौधा था। मौका था मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह समारोह का, जिसमें हिन्दू-मुस्लिम भाईचारे की मिसाल भी गढ़ी गई। मंगलवार को मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह समारोह का ओसीएफ रामलीला मैदान पर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने दीप जलाकर किया। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में लगातार कीर्तिमान स्थापित कर रही है। उनके एक ऐतिहासिक निर्णय को मूर्तरूप दिया जाता है। अभी तक सामाजिक व बिरादरी संगठनों से इस तरह विवाह समारोह आयोजित किए जाते रहे, लेकिन सरकारी स्तर पर पहली बार कार्यक्रम आयोजित किया जाना सराहनीय कदम है। जिसमें जिले के 201 लोगों को घर बसाने का अवसर मिला है। उन्होंने नवविवाहित वर-वधू को आशीर्वाद और उज्जवल भविष्य की कामना की। पूर्व केन्द्रीय गृह राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद सरस्वती ने कहा कि इस योजना के तहत गरीब परिवारों को एक-दूसरे को जोड़ने का सराहनीय काम किया गया है। उन्होंने कहा कि वर को नारायन और वधु को लक्ष्मी के रूप में देखा जाता है। उनसे संतानें जन्म लेंगी और एक परिवार बनेगा। डीएम अमृत त्रिपाठी ने कहा कि समारोह में हिन्दू परिवारों के लड़के-लड़कियों के साथ ही 35 मुस्लिम जोड़ो का निकाह भी कराया जा रहा है। यह अपने आप भाईचारे की मिसाल पेश करता है। इस मौके पर जिला पंचायत अध्यक्ष अजय प्रताप सिंह यादव, विधायक रोशन लाल वर्मा, वीर विक्रम सिंह, मानवेंद सिंह, सीडीओ संजीव सिंह, एडीएम एफआर सर्वेश कुमार, सिटी मजिस्ट्रेट विनय प्रकाश, एसडीएम सदर रामजी मिश्रा, भाजपा जिलाध्यक्ष राकेश मिश्रा, जिला महामंत्री डीपी सिंह, इंदु अजनबी आदि मौजूद रहे।

एक जोड़े पर खर्च हुए 35 हजार

सामूहिक विवाह में सभी जोड़ों को 20-20 हजार का अनुदान दिया गया। 10 हजार तक का घरेलू सामान और पांच हजार रुपए समारोह की व्यवस्था में खर्च किए गए। इस तरह एक जोड़ों पर सरकार की तरफ से 35 हजार रुपए खर्च किया गया।

प्रशासन के साथ विधायक व उद्योगपतियों ने भी दिए उपहार

मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह समारोह में वर-वधू को उपहार स्वरूप बेड, गद्दा, पायल, चांदी की बिछिया, साड़ी, पैंट-शर्ट, कपड़ा, चुनरी, थाली, गिलास, कटोरी, चम्मच, लोटा बेला प्रशासन की ओर से दिया गया। तिलहर विधायक रोशन लाल वर्मा ने कन्याओं को गृहस्थी में उपयोग के लिए प्रेशर कुकर उपहार में दिए। इसी तरह नगर के उद्योगपतियों में अशोक अग्रवाल ने बैडशीट, तकिया, रिलायंस की ओर से डिनर सेट, सिटी पार्क ने टी सैट, रामचंद्र सिंघल ने साड़ियां देकर वर-वधू को सुखी दाम्पत्य जीवन का आशीर्वाद दिया।

शादी से खुश दिखे वर-वधू, सरकार को दिया धन्यवाद शादी करने आए जालंधर के प्रदीप राजपूत मजदूरी करते हैं। उन्होंने कहा कि सरकार की इस पहल की वजह से उनकी शादी हो रही है। वह शादी के लिए रुपए नहीं जुटा पा रहे थे। सरकार की इस पहल से वह काफी खुश हैं। तिलहर के सुनौरा निवासी जितेंद्र की शादी रोजा के मठिया कालोनी की नीलम से हुई। दोनों के चेहरे की खुशी देखते ही बन रही थी। पूछने पर बोले परिवारिक स्थिति अच्छी नहीं होने के कारण शादी में अड़चन आ रही थी। सरकार ने सामूहिक विवाह समारोह का आयोजन कराकर उसका भी समाधान कर दिया। समारोह में निकाह करने के लिए आए ककराकलां के मोहम्मद इलियास ने सरकार की पहल की सराहना की और योजना चलाने के लिए धन्यवाद भी दिया। उनकी शादी मोहल्ले की बेबी के साथ हुई।

प्रक्रिया पूरी कर दिए जाएंगे शौचालय डीपीआरओ धर्मेंद्र कुमार ने कहा कि विवाह समारोह में कैबिनेट मंत्री सुरेश खन्ना ने वर-वधू को दहेज में उपहार स्वरूप शौचालय दिए जाने की घोषणा की। समारोह में जिन 201 जोड़ों का विवाह हुआ उनका पहले सत्यापन कराया जाएगा। जिनके घर में शौचालय नहीं होगा, उन्हें प्रक्रिया पूरी कराके शौचालय दिए जाएंगे। जिसके लिए अनुदान के रूप में 12 हजार रुपए देकर शौचालय का निर्माण कराया जाएगा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:201 marriage, dowry and toilets and plants