DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › संतकबीरनगर › शौचालय के केयर टेकर के लिए भटक रही महिलाएं
संतकबीरनगर

शौचालय के केयर टेकर के लिए भटक रही महिलाएं

हिन्दुस्तान टीम,संतकबीरनगरPublished By: Newswrap
Sun, 01 Aug 2021 04:02 AM
शौचालय के केयर टेकर के लिए भटक रही महिलाएं

लोहरौली। हिन्दुस्तान संवाद

सेमरियावां ब्लॉक मुख्यालय पर केकरहों स्थित लक्ष्मी महिला स्वयं सहायता समूह की महिलाओं ने शनिवार को प्रदर्शन किया। सामुदायिक शौचलय पर मनमानी तौर पर केयर टेकर को तैनात करने का आरोप लगाया। महिलाओं का आरोप है कि धन लेकर सफई कर्मी की पत्नी का केयर टेकर के रूप में चयन कर दिया।

प्रदर्शन कर रही लक्ष्मी समूह की अध्यक्ष कुसुम देवी, बिन्दु देवी, सचिव कमलावती व अन्य सदस्यों ने बताया कि सामुदायिक शौचायल की देख रेख के लिए हमारे समूह का चयन किया गया है। चयन होने के बाद हम लोगों ने केयर टेकर के चयन के लिए एक बैठक किया।

20 जून को समूह की बैठक में समूह की सदस्य विधवा, निराश्रित महिला निशा को शौचालय के देख रेख के लिए केयर टेकर के रूप में चयन किया गया था। केयर टेकर चयन के आवेदन व समूह के प्रस्ताव के साथ एडीओ पंचायत व एडीओ आइएसबी देने के लिए आए थे।

मगर आवेदन स्वीकार नहीं किया गया। इधर एडीओ पंचायत कार्यालय में तैनात सफाईकर्मी बाबू लाल एडीओ पंचायत से मिलकर अपने पत्नी चंद्रावती देवी मनमानी तौर पर केयर टेकर में तैनाती करवा लिया। समूह की महिलाएं महीने भर से केयर टेकर के चयन के लिए भटक रही हैं। मगर एडीओ पंचायत से लेकर एडीओ आईएसबी इन महिलाओं की नहीं सुन रहे हैं। महिलाओं ने आरोप लगाया कि सामुदायिक शौचालय पर मनमानी तौर पर केयर टेकर का चयन किया जा रहा है।

नहीं मिला विधवा महिला को लाभ

समूह की अध्यक्ष कुसुम देवी ने बताया कि हमारे समूह की सदस्य निशा के पति की 31 जुलाई 2019 को एक मार्ग दुर्घटना में मौत हो गई थी। दो वर्ष से मृत्यु प्रमाण पत्र नहीं मिल रहा था। महीने भर दौड़ने के बाद आफलाइन मृत्यु प्रमाण पत्र मिला। मृत्यु प्रमाण पत्र न मिलने से परिवारिक लाभ, विधवा पेंशन से लेकर आज तक एक भी लाभ नहीं मिला। कुसुम देवी ने बताया कि बच्चों का भरण पोषण सही से नही हो पा रहा है। शौचायल पर केयर टेकर का चयन हो जाता तो बच्चों के भरण पोषण का सहारा बन जाता।

संबंधित खबरें