DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  संतकबीरनगर  ›  आक्सीजन के दो विकल्प के साथ संचालित होगा कोविड हास्पिटल
संतकबीरनगर

आक्सीजन के दो विकल्प के साथ संचालित होगा कोविड हास्पिटल

हिन्दुस्तान टीम,संतकबीरनगरPublished By: Newswrap
Thu, 17 Jun 2021 05:40 AM
आक्सीजन के दो विकल्प के साथ संचालित होगा कोविड हास्पिटल

संतकबीरनगर। निज संवाददाता

कोरोना की दूसरी लहर में अव्यवस्था का जो नजारा सामने आया, वह तीसरी लहर में न दिखे इसके लिए जिला अस्पताल को पूरी तरह से अपडेट किया जा रहा है। शासन का पूरा जोर बच्चों की सेहत के साथ-साथ कोरोना से संक्रमित मरीजों के इलाज पर है। ताकि इस बीमारी से किसी की असमय मौत न होने पाए। इसके लिए अस्पताल व पीआईसीयू को हाईटेक किया जा रहा है। आक्सीजन को लेकर स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह से गंभीर है। इसलिए दोहरे विकल्प के साथ जिला अस्पताल में तैयारी चल रही है। आक्सीजन प्लांट अभी स्टाल किया जा रहा है। अभी तक जंबों आक्सीजन सिलेंडर से आक्सीजन आपूर्ति की जाती थी और अब इसे रिजर्व में रखा जाएगा।

जिला अस्पताल परिसर में दो आक्सीजन प्लांट स्थापित किया गया है। दोनों प्लांट से हास्पिटल के प्रत्येक वार्ड को जोड़ने की योजना तैयार की गई है। इसी प्लांट से कोरोना संक्रमितों के लिए बनाए गए एमसीएच विंग्स और पीआईसीयू को जोड़ा जाएगा। प्लांट स्थापित हो जाने से प्रत्येक बेड को आक्सीजन की सीधी सप्लाई होगी। इससे मरीज को आक्सीजन सिलेंडर का इंतजार नहीं करना होगा। इसके अलावा जिला अस्पताल के भी प्रत्येक वार्ड को आक्सीजन प्लांट से जोड़ा जाएगा। ताकि नान कोविड मरीजों को भी आक्सीजन की समस्या न होने पाए।

विभाग का पूरा जोर तीसरी लहर में बच्चों को बचाने की है। इसलिए जिला अस्पताल परिसर में बच्चों के लिए बने पीआईसीयू को भी आक्सीजन प्लांट से जोड़ा जाएगा। जिला अस्पताल में 24 बेड का पीआईसीयू तैयार है। इस पीआईसीयू में नान कोविड बच्चों को भर्ती किया जाएगा। पीआईसीयू के दस बेड पर वेंटीलेटर उपलब्ध है। इसके अलावा अन्य बेड पर भी आक्सीन की सप्लाई की जाएगी। ताकि बच्चों को यदि आक्सीजन की जरूरत हो तो आक्सीजन दिया जाए और वेंटिलेटर की जरूरत हो तो ही वेंटीलेटर पर रखा जाए। इसके अलावा एमसीएच विंग्स में 50 बेड का पीआईसीयू बनेगा। यहां गंभीर मरीजों को रखा जाएगा।

‘कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिए हर स्तर पर तैयारी की जा रही है। अस्पताल को हईटेक किया जा रहा है। कोविड हास्पिटल से लेकर पीआईसीयू तक को आक्सीजन प्लांट से जोड़ा जाएगा। इसके अलावा जिला अस्पताल के वार्ड को भी इससे अटैच किया जाएगा। ताकि नॉन कोविड मरीजों को जरूरत पड़ने पर आसानी से आक्सीजन की आपूर्ति हो सके। इसके अलावा दो और चिकित्सालयों में आक्सीजन प्लांट लग रहा है। पीएचसी सीएचसी पर भी आक्सीजन सिलेंडर मौजूद हैं।

डा. इंद्र विजय विश्वकर्मा

मुख्य चिकित्साधिकारी

संबंधित खबरें