ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश संतकबीरनगरबीडीओ घोषित करेंगे ग्राम पंचायत को टीबी मुक्त

बीडीओ घोषित करेंगे ग्राम पंचायत को टीबी मुक्त

हिन्दुस्तान टीम, संतकबीरनगर। संतकबीरनगर जिले में क्षय रोग मुक्त भारत अभियान के तहत...

बीडीओ घोषित करेंगे ग्राम पंचायत को टीबी मुक्त
हिन्दुस्तान टीम,संतकबीरनगरMon, 04 Dec 2023 11:30 AM
ऐप पर पढ़ें

हिन्दुस्तान टीम, संतकबीरनगर।
संतकबीरनगर जिले में क्षय रोग मुक्त भारत अभियान के तहत अब एक-एक ग्राम पंचायतों को टार्गेट किया जाएगा। प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग मिल कर क्षय रोग उन्मूलन के लिए अभियान संचालित करेंगे। अंत में खंड विकास अधिकारी घोषित करेंगे कि क्षेत्र की इतनी ग्राम पंचायतें टीबी मुक्त हो चुकी हैं। उन ग्राम पंचायतों में स्वास्थ्य विभाग गहन जांच कराएगा। जांच में एक भी रोगी नहीं पाए जाए जाने पर स्वास्थ्य विभाग उस ग्राम पंचायत को पूरी तरह से टीबी मुक्त घोषित होने का प्रमाण पत्र दिया जाएगा। शासन की मंशा है कि 2025 तक समूचा देश टीबी मुक्त घोषित हो। इसके लिए अब निचले स्तर पर अभियान संचालित किया जा रहा है। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन मिलकर अभियान संचालित करेंगे। प्रत्येक गांवों में कैंप लगाकर लोगों के बलगम के नमूने लेकर जांच की जाएगी। अभियान को सफल बनाने के लिए नए सिरे से सीएचओ को प्रशिक्षित किया जा रहा है।

ग्राम पंचायत से लेकर शहर तक को टीबी मुक्त किए जाने का लक्ष्य बनाया गया है। क्षय रोग मुक्ति के लिए विस्तृत रूप रेखा तैयार की गई है। स्वास्थ्य विभाग के साथ अब प्रशासन पूरी तरह से इस अभियान में शिरकत करेगा। शासन के निर्देश पर दोनों विभाग मिलकर कार्य योजना तैयार करेंगे। अभियान में ग्राम पंचायत अधिकारी, रोजगार सहायक, पंचायत सहायक के साथ-साथ प्रधान को भी सीधे तौर पर जोड़ा जाएगा। लोगों को घरों से बाहर निकालने की जिम्मेदारी स्वास्थ्य विभाग की होगी। विभागीय अधिकारी लोगों को इस बीमारी के बारे में विस्तार से जानकारी ही नहीं देंगे, बल्कि उन्हें जांच के लिए प्रेरित करेंगे। इसके साथ गांव में तैनात सीएचओ संभावित टीबी के रोगियों की स्क्रीनिंग करने के साथ ही उनकी जांच करेंगे। गांवों में लोगों का बलगम संकलित करने के साथ ही बलगम जांच केन्द्र पर अभियान चलाकर जांच की जाएगी। जिससे एक भी क्षय रोग से संक्रमित व्यक्ति न बचे। इस अभियान के संचालन के लिए जिला क्षयरोग अधिकारी डॉ. एसडी ओझा ने कार्यक्रम के जिला समन्वयक अमित आनंद को जिम्मेदारी सौंपी है। जिला क्षय रोग अधिकारी डा. एसडी ओझा ने बताया कि कार्यक्रम के बाबत पंचायती राज विभाग को पत्र लिखा गया है। ग्राम पचायत स्तर पर व्यापक रूप से अभियान संचालित किया जाएगा। जब प्रशासन पूरी तरह से निश्चिंत हो जाएगा तब खंड विकास अधिकारी की ओर से टीबी मुक्त ग्राम पंचायत का दावा पेश किया जाएगा। उस दावे के बाद पूरी ग्राम पंचायत की जांच कराई जाएगी। जांच में कोई रोगी न मिलने पर ग्राम पंचायत टीबी मुक्त घोषित किया जाएगा।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें