DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  संतकबीरनगर  ›  अधिसूचना जारी होने के बाद भाजपा, सपा में बढ़ी सरगर्मी
संतकबीरनगर

अधिसूचना जारी होने के बाद भाजपा, सपा में बढ़ी सरगर्मी

हिन्दुस्तान टीम,संतकबीरनगरPublished By: Newswrap
Thu, 17 Jun 2021 05:40 AM
अधिसूचना जारी होने के बाद भाजपा, सपा में बढ़ी सरगर्मी

संतकबीरनगर। निज संवाददाता

जिला पंचायत अध्यक्ष पद के चुनाव की अधिसूचना जारी होने के बाद से ही राजनीतिक सरगर्मी बढ़ गई है। दावेदार अपने समर्थन में गुणा-गणित लगाने में जुटे हैं। हालांकि अभी तक केवल सपा ने ही अपना प्रत्याशी घोषित कर रखा है, भाजपा में अभी कवायद चल रही है तो अन्य दल चुप्पी साधे हुए हैं। इस बार के चुनाव में निर्दल प्रत्याशी के उतरने को लेकर भी कोई संभावना अभी तक नहीं दिख रही है। सपा नेता कार्यकर्ता पूरे जोश के साथ जहां चुनाव मैदान में उतर चुके हैं तो वहीं भाजपाई अभी प्रदेश नेतृत्व के निर्णय का इंतजार कर रहे हैं।

26 जून को अध्यक्ष पद के लिए नामांकन होगा तो तीन जुलाई को मतदान और मतगणना की प्रक्रिया पूरी होगी। इस कारण अब समय नहीं रह गया है। जनपद में 30 वार्ड हैं, इसमें से भाजपा महज तीन पर चुनाव जीती है तो वहीं सपा की सबसे अधिक सीटे हैं। हालांकि बसपा से चुनाव जीते कृष्णा चौरसिया के भाजपा में शामिल होने के बाद भाजपा की संख्या चार हो गई है। सपा ने काफी पहले अपना प्रत्याशी घोषित कर दिया। निर्दल चुनाव जीते बलिराम यादव को राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने पार्टी की सदस्यता दिलाने के साथ ही प्रत्याशी भी घोषित कर दिया। इसके बाद से जनपद के सपाई पूरी तन्मयता से सदस्यों को अपने पाले में करने के अभियान में जुट गए हैं। पार्टी के नेताओं की माने तो इस सीट पर राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव खुद नजर बनाए हैं। उन्होंने कार्यकर्ताओं को सख्त निर्देश भी दिया है।

वहीं भाजपा जिलाध्यक्ष बद्री प्रसाद यादव की माने तो जनपद स्तर से प्रदेश कमेटी को नाम उपलब्ध करा दिए गए हैं। वहां से जल्द ही प्रत्याशी के नाम पर मुहर लग जाएगी। उन्होंने बताया कि तीन नाम भेजे गए हैं, इसमें एक नाम बलिराम यादव का भी था, लेकिन उन्होंने सपा की सदस्यता ग्रहण कर ली, इस कारण दो ही बचे हैं। जिसमें संगीता सोनी और कृष्णा चौरसिया शामिल हैं। प्रदेश नेतृत्व जिसे प्रत्याशी बनाएगा उसकी जीत के लिए पार्टी नेता, कार्यकर्ता पूरी तन्मयता से जुट जाएंगे। वहीं बसपा के जिम्मेदार इसको लेकर कुछ भी बोलने से कतरा रहे हैं। सभी को पार्टी नेतृत्व के निर्देश का इंतजार है।

संबंधित खबरें