DA Image
Thursday, December 9, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश संभलमदरसों में उर्दू की अनिवार्यता न की जाए समाप्त

मदरसों में उर्दू की अनिवार्यता न की जाए समाप्त

हिन्दुस्तान टीम,संभलNewswrap
Thu, 28 Oct 2021 03:21 AM
मदरसों में उर्दू की अनिवार्यता न की जाए समाप्त

मदरसा सिराजुल उलूम हिलाली सराय में हुई टीचर्स एसोसिएशन मदारिस ए अरबिया संभल यूनिट की बैठक में सिलेबस को लेकर चर्चा की गई। बैठक में मौलाना मोहम्मद मियां ने कहा कि माध्यमिक शिक्षा परिषद, सेकेंड्री व सीनियर सेकेंड्री शिक्षा में अंग्रेजी वैकल्पिक विषय है लेकिन मदरसों में उसे अनिवार्य किया जा रहा है।

विज्ञान, गणित और सामाजिक विषय भी अनिवार्य किए जा रहे हैं। जबकि इन विषयों को पढ़ाने के लिए कोई शिक्षक मदरसों को नहीं दिया गया है। आधुनिकीकरण के नाम पर मदरसों को जो शिक्षक दिए गए थे उन्हें पिछले पांच साल से केंद्र सरकार ने वेतन भत्ता नहीं दिया है। टीचर्स एसोसिएशन मदारिस ए अरबिया मांग करती है कि मदरसों की पहचान बरकरार रखी जाए। अरबी फारसी मदरसों में अरबी फारसी विषयों के साथ उर्दू की अनिवार्यता समाप्त न की जाए क्योंकि मदरसों में सभी शिक्षा उर्दू माध्यम से दी जाती है। मौलाना मोहम्मद आरिफ ने दुआ कराई। इस दौरान मौलाना नूर आलम, हाफिज मोहम्मद जाहिद, मौलाना मोहम्मद जकरिया, मौलाना मोहम्मद आरिफ, मास्टर मोहम्मद आकिल, मास्टर मुनव्वर अली, मौलाना मोहम्मद कासिम, मौलाना जुल्फेकार अली आदि रहे। संचालन मौलाना जियाउल हक नदबी ने किया।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें