Friday, January 21, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश संभलधनारी में भारी पुलिस फोर्स की मौजूदगी में चढ़ी दलित की बारात

धनारी में भारी पुलिस फोर्स की मौजूदगी में चढ़ी दलित की बारात

हिन्दुस्तान टीम,संभलNewswrap
Thu, 02 Dec 2021 03:30 AM
धनारी में भारी पुलिस फोर्स की मौजूदगी में चढ़ी दलित की बारात

संभल जनपद के धनारी थाना क्षेत्र में वाल्मीकि समाज के दूल्हे की बारात गांव में नहीं निकलने देने के ऐलान के चलते बुधवार को गांव छावनी बना रहा। सीओ गुन्नौर और तीन थानों के पुलिस फोर्स की मौजूदगी में गांव में बारात निकाली गई। वही अखिल भारतीय वाल्मीकि महापंचायत के पदाधिकारियों को पुलिस ने देर रात तक थाने में नजरबंद रखा। बारात संपन्न होने के बाद ही उन्हें थाने से छोड़ा गया। थाना क्षेत्र के गांव मुडेना निवासी प्रीति की बारात बड़ा गांव की मड़ैया से बुधवार शाम को आई थी। बताया जा रहा है कि गांव के यादव समुदाय के लोगों ने इसे नई परंपरा बताते हुए पहले ही ऐलान कर दिया था, कि अभी तक वाल्मीकि समाज के लोगों की बारात गांव में नहीं निकाली जाती है। अर्थात दूल्हे को घोड़ी पर बैठा कर गांव में नहीं घुमाया जाता है। इस बार भी बारात नहीं निकाली जाएगी। इसे देखते हुए अखिल भारतीय वाल्मीकि महापंचायत के प्रदेश अध्यक्ष मयंक वाल्मीकि और रोहित जैनवाल 28 नवंबर को जिलाधिकारी संजीव रंजन और पुलिस अधीक्षक चक्रेश मिश्र से मिले थे। उन्होंने पुलिस की मौजूदगी में बारात निकाले जाने की मांग उठाई थी। इस पर बुधवार शाम को गांव छावनी में तब्दील कर दिया गया।

सीओ के साथ तीन थानों का फोर्स रहा मौजूद

मुडेना गांव में बुधवार शाम को बारात पहुंचने से पहले ही भारी तादाद में पुलिस फोर्स तैनात कर दिया गया। सीओ गुन्नौर राकेश कुमार के साथ ही धनारी, रजपुरा और गुन्नौर थाने का पुलिस फोर्स गांव में तैनात कर दिया गया। पुलिस की मौजूदगी में बारात निकाली गई। देर रात 10 बजे बारात संपन्न हुई।

थाने में नजरबंद रहे वाल्मीकि समाज के पदाधिकारी

अखिल भारतीय वाल्मीकि महापंचायत के प्रदेश अध्यक्ष मयंक वाल्मीकि और उनके साथी रोहित जैनवाल को धनारी थाना पुलिस ने वार्ता करने के लिए थाने बुला लिया और उन्हें थाने में ही नजरबंद कर लिया। देर रात जब बारात संपन्न हो गई, तो उन्हें थाने से छोड़ा गया। थाना प्रभारी मुकेश कुमार ने बताया कि वाल्मीकि समाज के लोग गांव के एक रास्ते से बारात निकालते हैं। किसी ने अफवाह फैला दी थी, कि बारात नहीं निकलने दी जाएगी। इसी को ध्यान में रखते हुए पुलिस तैनात की गई थी। शांतिपूर्ण तरीके से बारा संपन्न हुई।

epaper
सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें