DA Image
23 सितम्बर, 2020|6:46|IST

अगली स्टोरी

फीस वसूली को घरों पर दस्तक दे रहे स्कूलों के शिक्षक-शिक्षिकाएं

default image

कोरोना काल में पांच महीने से स्कूल बंद रहने के हालात में स्कूल संचालक अभिभावकों पर फीस जमा करने के लिए मैसेज और फोन कर दबाव बनाने से भी दो कदम आगे बढ़ गये हैं। संभल जनपद में अब स्कूल के शिक्षक-शिक्षिकाओं को बच्चों के घरों पर दस्तक देकर फीस वसूली की जिम्मेदारी दी जा रही है। शहर के एक स्कूल के अध्यापकों ने गांव में जाकर फीस का तकादा किया तो जहां कुछ अभिभावकों ने फीस जमा की वहीं कुछ ने स्पष्ट कह दिया कि जब पढ़ाई ही नहीं कराई तो वह फीस क्यों जमा करें।

कोविड-19 कोरोना वायरस के कारण मार्च महीने में देशभर में लाकडाउन घोषित कर दिया गया था। उसके बाद से अभी तक देशभर में शिक्षण संस्थान बंद हैं। शिक्षण संस्थान बंद होने के दौरान जिले में कुछ निजी स्कूल और कालेज संचालकों ने खानापूर्ति करने के लिए आनलाईन पढ़ाई शुरू की लेकिन संसाधनों के अभाव में यह कारगर साबित नहीं हो पा रही है। स्कूल संचालक फीस वसूलने के लिए प्रतिदिन अभिभावकों को मैसेज कर रहे हैं। कुछ स्कूल संचालक अभिभावकों को फोन कर फीस जमा करने का दबाव बना रहे हैं। लेकिन बात मैसेज और फोन करने तक ही सीमित नहीं हैं। शहर के प्रतिष्ठित कालेज के शिक्षक-शिक्षिकाएं फीस वसूलने के लिए बच्चों के घर-घर जा रहे हैं। अभिभावक दे रहे दो टूक जवाब

मंगलवार को शहर के स्कूल के शिक्षक-शिक्षिकाएं दिनभर ग्रामीण क्षेत्र के बच्चों के घर घूमते रहे। इस दौरान शिक्षक-शिक्षिकाओं ने फीस वसूलने के लिए अभिभावकों पर तरह-तरह से दवाब बनाया लेकिन ग्रामीण इलाके में अधिकांश अभिभावकों ने स्पष्ट कह दिया कि जब पढ़ाई ही नहीं हुई तो वह फीस किसलिए जमा करें।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Teacher teachers in schools knocking fee collection at home