DA Image
19 अक्तूबर, 2020|4:17|IST

अगली स्टोरी

थाने में शिकायत करने पर मिलेगा टोकन नंबर

default image

सहारनपुर। संवाददाता

अब थानों से शिकायत पत्र गुम नहीं हो सकेंगे और न ही फरियादी की शिकायत को छिपाया जा सकेगा। थाने पर शिकायत करने पर प्रत्येक फरियादी को एक टोकन नंबर दिया जाएगा। टोकन में फरियादी की पूरी डिटेल के साथ शिकायत का प्रकार भी लिखा जाएगा। इसकी जिम्मेदारी महिला हेल्प डेस्ट की होगी।

हाथरस की घटना के बाद प्रदेश सरकार थानों पर किसी तरह की कोई ढिलाई देने के मूड में नहीं है। प्रदेश सरकार के निर्देश पर थानों पर पहुंचने वाले फरियादियों की शिकायतों का अब डाटा रखा जाएगा। दो दिन पहले डीजीपी ने नया सर्कुलर जारी किया है। जिसमें प्रत्येक थाने में महिला डेस्क और आगंतुक कक्ष बनाया जाएगा। आगंतुक व शिकायतकर्ता पहले डेस्क पर जाएंगे, जहां महिला पुलिस कर्मी न केवल उनकी समस्या सुनेंगी बल्कि शिकायत दर्ज कराने के लिए उन्हें स्टेशनरी भी उपलब्ध कराएंगी। शिकायत पत्र देने पर उन्हें रिसीविंग के साथ एक टोकन भी मिलेगा। शिकायत पत्र की डिटेल थाना से संबंधित अफसर व बीट प्रभारी को सौंपी जाएगी। टोकन में संबंधित अफसर व बीट सिपाही का नंबर भी दर्ज होगा।

कंप्यूटर में सुरक्षित रखा जाएगा शिकायत पत्र

शिकायतीपत्र मिलने के बाद डेस्क प्रभारी कंप्यूट पर स्कैन कर शिकायतपत्र को सुरक्षित रखेंगे। इसके बाद जो टोकन नंबर शिकायतकर्ता को दिया जाएगा। उसी नंबर से फाइल तैयार होगी। यानि टोकन नंबर डालने के बाद शिकायतीपत्र की डिटेल मिल जाएगी।

इस तरह काम करेगी नई व्यवस्था

- थाने में आने वाले हर आगंतुक, शिकायतकर्ता, पीड़ित महिलाओं को रिसेप्शन पर तैनात पुलिस कर्मी अटेंड करेंगे

- शिकायतकर्ता की डिटेल कंप्यूटर में फीड की जाएगी

- शिकायतकर्ता के प्रार्थना पत्र को स्कैन कर कंप्यूटर फोल्डर में फीड किया जाएगा, जिसका टोकन नंबर होगा।

- इसे रिकार्ड के रूप में रखा जाएगा और उस पर सील मोहर लगाई जाएगी।

-थाना प्रभारी, बीट प्रभारी को शिकायतकर्ता के बारे में अवगत कराया जाएगा।

दी जाएगी विशेष ट्रेनिंग

महिला हेल्प डेस्क व थाने का आगंतुक कक्ष पूरी तरह से कंप्यूटाराइज्ड होगा, जिसे महिला कांस्टेबल ऑपरेट करेंगी। रिसेप्शन में लगे कंप्यूटर पर थाने में तैनात अफसर से लेकर सभी पुलिस कर्मियों के मोबाइल नंबर नाम के साथ फीड किए जाएंगे। रिसेप्शन पर तैनात महिला पुलिस कर्मियों की स्पेशल ट्रेनिंग कराई जाएगी। यही नहीं महिला डेस्क और आगंतुक कक्ष में 8-8 घंटे की तीन शिफ्ट में डयूटी रहेगी।

वर्जन

शासन के निर्देश पर प्रत्येक थाने पर आगंतुक कक्ष और महिला हेल्प डेस्क बनाया जा रहा है। शिकायतकर्ताओं को थाने पर शिकायत करने पर एक टोकन नंबर दिया जाएगा। जिसके आधार पर शिकायतकर्ता की पूरी डिटेल और शिकायत का प्रकारण भी दर्ज होगा।

-डॉ. एस चनप्पा, एसएसपी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:You will get a token number on complaint at the police station