DA Image
3 जुलाई, 2020|3:29|IST

अगली स्टोरी

शाबाश सहारनपुर! अब तक कोरोना से नहीं हुई कोई मौत

default image

भले ही काष्ठ नगरी सहारनपुर में कोरोना के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही हो, लेकिन यहां अब तक कोरोना से कोई मौत नहीं हुई हैं। जिस तरह से प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने मिलकर कोरोना में काम किया वह काबिल-ए-तारीफ है। दूसरे राज्य से आने वाले हर व्यक्ति को क्वारंटाइन किया। जिसका फायदा भी मिला। वहीं, कोविड-19 अस्पतालों में मरीजों के अच्छे खाने से प्रतिरोधक क्षमता ठीक रही।

कोरोना को लेकर देशभर में लॉकडाउन घोषित है। आगरा, मेरठ, अलीगढ़, कानपुर आदि जिलों में कोरोना से मरने का सिलसिला जारी है। सहारनपुर में कोरोना को लेकर बेहतर काम हुआ। यहां के लोग छोटी से छोटी सूचना प्रशासन को दे रहे हैं। विदेश और दूसरे राज्यों से आए लोग खुद भले ही सूचना देने में परहेज कर रहे हों पर आसपास रहने वाले लोग इसमें पीछे नहीं हैं। उन्हें अपने साथ अपने शहर और अपने जिले की चिंता है।

इसलिए स्वास्थ्य विभाग की टीम को बुलाकर विदेश और दूसरे राज्यों से आए लोगों की थर्मल स्क्रीनिंग कराई गई और जिन लोगों में जरा भी कोरोना के लक्षण दिखे उनको अस्पताल भेजा और वहां पर कोरोना से संबंधित जांच हुई। जिले में अब तक कोरोना की जांच के लिए 7604 लोगों के सैंपल भेजे गए।इसमें से अब तक 6605 लोगों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आ चुकी है। अभी 782 लोगों के कोरोना जांच की रिपोर्ट नोएडा लैब से आनी है।

अगर यह रिपोर्ट भी निगेटिव आती हैं तो जनपद के लिए अधिक राहत की बात होगी। वैसे अब स्वास्थ्य विभाग ने अपनी सक्रियता और अधिक बढ़ाई है। जिले से कोरोना की जांच के लिए नमूनों की संख्या बढ़ाई जा रही है। हर रोज कोरोना आशंकित के नमूने लेकर उन्हें जांच के लिए भेजा जा रहा है। लेकिन अब तक तो स्थिति ठीक है। खास बात यह है कि जिले में कोरोना से कोई मौत नहीं हुई। जिससे जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग को राहत है।

अच्छे खानपान का नतीजा

कोरोना पॉजिटिव मरीजों को कोविड-19 अस्पतालों में भर्ती कराया जाता है। 217 जिले कोरोना संक्रमित निकले हैं। इनमें से 193 सही कर लिए गए। 24 एक्टिव केस बचें है। कोविड-19 अस्पतालों में भर्ती मरीजों के ठीक होने में अच्छे खानपान रहा। इससे उनकी प्रतिरोधक क्षमता नहीं गिरी। खाने में रोटी-सब्जी, दाल-चावल, सलाद और सुबह के नाश्ते में बटर ब्रेड, दूध के साथ-साथ फल भी दिए गए।

कोरोना को हराएं और कहीं पर भी भीड़ न लगाएं : सीएमओ

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. बीएस सोढ़ी ने कहा कि हर हालत में हमें लॉक डाउन का पालन करना है। अगर हमारे घर के आसपास कोई व्यक्ति ऐसा है जो विदेश से आया है और उसने स्वास्थ्य विभाग की टीम से अपनी सेहत का परीक्षण नहीं कराया है तो उसके बारे में तत्काल नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र को अवगत कराएं और कंट्रोल रूम को भी कॉल करें।

बाहर से आने वालों को क्वारंटाइन करने का बहुत फायदा मिला है। अब तक जितने भी कोरोना पॉजिटिव निकले है वह क्वारंटाइन थे। कोविड-19 अस्पतालों में खानपान भी अच्छी व्यवस्था है। जिन्हें तीन समय खाना दिया जाता है, जिससे उनकी प्रतिरोधक क्षमता अच्छी बनी रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Well done Saharanpur No death from Corona yet