DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

टॉपर ने दो घंटे की नियमित पढ़ाई को बताया सफलता का राज

टॉपर ने दो घंटे की नियमित पढ़ाई को बताया सफलता का राज

स्मार्ट फोन और सोशल मीडिया पर सक्रियता आज हर युवा की चाहत है। वहीं हाल ही में यूपी बोर्ड, आईसीएसई के बाद सीबीएसई के बोर्ड परीक्षा परिणाम में टॉप करने वाले छात्रों की स्मार्ट फोन और सोशल मीडिया को लेकर राय जुदा है। अधिकतर टॉपर्स के पास खुद का मोबाइल नहीं है। जिला टॉपर सोशल मीडिया से दूर हैं और ज्ञान बढ़ाने के लिये परिवार के सदस्यों का फोन प्रयोग किया। हिन्दुस्तान के माध्यम से सीबीएसई 10वीं के टॉपर्स ने सफलता का राज बयां किया है।

रोजाना दो घंटे नियमित करें पढ़ाई : वत्सल सीबीएसई 10वीं में 495 अंक प्राप्त कर जिला टॉप करने वाले वत्सल बिंदल ने इसी नींव कक्षाएं शुरू होते ही रख दी थी। वत्सल ने रुटीन बनाकर रोजाना दो घंटे पढ़ाई की। टॉपर ने बताया कि परीक्षाएं नजदीक आई तो सबकुछ छोड़कर केवल पढ़ाई पर ध्यान दिया, ताकि प्रत्येक विषय में अधिक से अधिक अंक प्राप्त कर सकूं। गणित वत्सल का पसंददीदा विषय है, लेकिन गणित और सामाजिक विज्ञान में ही वत्सल के सबसे कम 98 अंक है। इसपर उन्होंने कहा कि गणित में गणना गलत होने के कारण उनके अंक कटे है। जिसको वो आगे ध्यान रखेंगे। स्मार्ट फोन को लेकर कहा कि वह स्मार्ट फोन कॉलिंग और वाट्सएप के लिए प्रयोग करते हैं। वाट्सएप पर साथियों और शिक्षकों से नोट्स आदि का आदान-प्रदान करते हैं। इसके अलावा अन्य सोशल मीडिया से दूरी बनाई हुई है। वत्सल सोशल मीडिया को टाइम वेस्ट मानते हैं। टॉपर बनने के बाद पहले दिन वत्सल के घर बधाई देने वालों का तांता लगा रहा। खुद के पैसे से खरीदूंगी स्मार्ट फोन : छविसाहिब जी नगर निवासी छवि धीमान ने सीबीएसई 10वीं में जिले में दूसरे स्थान पर रहीं। छवि ने 493 अंक प्राप्त किए हैं। बुधवार को छवि का अधिकतर समय बधाइयां स्वीकारने में गुजरा। छवि ने बताया कि स्कूल के शिक्षकों ने वाट्सएप ग्रुप बनाया हुआ है। जिसपर नोट्स का आदान-प्रदान व विषय संबंधी अन्य समस्याओं का समाधान किया जाता है। इसलिये वह अपनी मम्मी का फोन प्रयोग करती है। छवि शिक्षिका बनना चाहती हैं और खुद के पैसे से ही फोन खरीदने की ख्वाहिश है। छवि ने बताया कि परीक्षा के दौरान अभिभावकों ने तनाव न लेने की प्रेरणा दी। द्वितीय टॉपर ने विद्यार्थियों को जितना भी पढ़ें मन से पढ़ने का सुझाव दिया है। पढ़ाई को न समझें बोझ : कुशसीबीएसई 10वीं की परीक्षा में 98 फीसदी अंक प्राप्त करने वाले माउंट लिट्रा स्कूल के कुश गुप्ता ने कहा कि कुछ छात्र पढ़ाई को औपचारिकता और बोझ समझ लेते हैं। यही कारण है कि ऐसे छात्र परीक्षा में बेहतर प्रदर्शन नहीं कर पाते। जब शिक्षा को रूचि के साथ पढ़ना शुरू करेंगे तो प्रदर्शन में सुधार होगा। उन्होंने ने भी यही किया। प्रत्येक विषय को आवश्यकतानुसार समय दिया। परीक्षा नजदीक आई तो अधिकतर पढ़ाई पूरी हो गई। उन्होंने सोशल मीडिया के अधिक प्रयोग को पढ़ाई के लिये हानिकारक माना है। कहा कि सोशल मीडिया का जरूरत से ज्यादा प्रयोग पढ़ाई से ध्यान हटाता है, सोशल मीडिया का हमें आदि नहीं होना चाहिए, बस उसे अपनी जरुरत के अनुसार उपयोग करना चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Topper told two hours of regular study, the secret of success