DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पुनर्मतदान को सुबह-सुबह घरों से निकले मतदाता

पुनर्मतदान को सुबह-सुबह घरों से निकले मतदाता

कैराना लोकसभा चुनाव के दौरान वीवीपैट मशीनों में खराबी के कारण जिले की गंगोह और नकुड़ विधानसभा के कुल 68 बूथों पर बुधवार को पुनर्मतदान कराया गया। जिनमें नकुड़ विधानसभा के 23 और गंगोह विधानसभा के 45 बूथ शामिल रहे।

पुनर्मतदान के लिये लोगों में पहले से अधिक उत्साह दिखा। कई बूथों पर मतदान शुरू होने से पूर्व ही मतदाताओं की लाइनें लगी रही। रोजा होने के कारण अधिकतर मुस्लिम मतदाता सुबह-सुबह ही मतदान करने के लिये पहुंचा। हालांकि हिंदू बाहुल्य बूथों पर कम ही मतदाता नजर आए। दोपहर तक ही अधिकतर बूथों पर 50 फीसदी तक मतदान हुआ। गंगोह स्थित हीरोज मैमोरियल स्कूल के एक बूथ को छोड़कर अन्य स्थानों पर वीवीपैट मशीन खराब होने की सूचना नहीं आई। 08:52 बजे, गांव अलीपुरा, सरसावानकुड़ विधानसभा क्षेत्र के गांव अलीपुरा स्थित प्राथमिक विद्यालय के बाहर लोगों की भीड़ लगी दिखी। सभी पुनर्मतदान को लेकर समीकरण लगाने में व्यस्त थे। ग्रामीण पुुनर्मतदान होने वाले बूथ पर मतदाताओं का रूझान जानने को उत्सुक दिखे। प्रत्याशी के समर्थक अपने-अपने प्रत्येक वोटर को बूथ तक पहुंचाने में जुटा रहा। ताकि पुनर्मतदान का पूरा फायदा मिले। यहां बूथ संख्या 145 और 146 के बाहर करीब 30-30 मतदाता अपने मतदान के इंतजार में थे। दोनों बूथों पर सुबह से ही लाइन नहीं टूटी। इसी कारण इस बूथ पर दो घंटे में करीब 20 फीसदी मतदान हुआ। 09:05 बजे, गांव काजीपुरा, सरसावानकुड़ विधानसभा क्षेत्र के गांव काजीपुरा स्थित प्राथमिक विद्यालय में बूथ संख्या 148 पर पुनर्मतदान को महिला और पुरुषों में उत्साह दिखा। मतदान केंद्र के आसपास दोनों पार्टियों के समर्थक मतों के गुणा-भाग में लगे थे। प्रत्येक घंटे में हुए मतदान की जानकारी जुटाकर शेष बचे मतदाताओं को बूथ तक लाना सुनिश्चित किया जा रहा था। हालांकि इस गांव के मतदाता पहले से ही जागरुक दिखे। यहां मतदान शुरू होने से पूर्व ही लोग पहुंचे चुके थे। सात बजे से नौ बजे तक बूथ के बाहर करीब 40-40 लोगों की लाइन लगी रही। नौ बजे तक यहां 17 फीसदी मतदान हुआ। 09.27 बजे, डीसी जैन इंटर कॉलेज, सरसावासरसावा स्थित डीसी जैन इंटर कॉलेज नकुड़ विधानसभा के अंतर्गत आता है। यहां के बूथ संख्या 157 पर पुनर्मतदान हुआ। हिंदू बाहुल्य इस बूथ पर साढ़े नौ बजे एक भी मतदाता नजर नहीं आया। स्कूल के गेट से लेकर बूथ तक केवल सुरक्षा में तैनात बल और चुनाव कर्मी दिखे। पीठासीन अधिकारी ने बताया कि सुबह के समय मतदाता अधिक आए। जिस कारण ढाई घंटे में ही 37 प्रतिशत मतदान हुआ। 11:00 बजे, हीरोज मैमोरियल स्कूल, गंगोहगंगोह स्थित हीरोज मैमोरियल स्कूल मतदान केंद्र की अतिसंवेदनशीलता को देखते हुए यह मतदान केंद्र छावनी में तब्दील था। कड़ी चैकिंग के बाद केवल मतदाता ही बूथ तक पहुंचा। यहां बूथ संख्या 140 और 141 पर कुल 2560 मतदाता पंजीकृत थे। बूथ संख्या 140 पर इक्का-दुक्का जबकि बूथ संख्या 141 पर दस-दस महिला-पुरुष मतदाताओं की लाइन थी। मतदान को पहुंची 70 वर्षीय रशीदा बोली आज तो आते ही वोट डाल दिया। पहले तो कई घंटे खड़े होने के बाद भी वोट न डाल सके थे। एजेंट ने रशीदा को लाइन से बचाकर पहले मतदान कराया। हालांकि बूथ संख्या 141 पर पहला ही वोट पड़ने के बाद वीवीपैट मशीन खराब हो गई थी।

आधा घंटे बाद दोबारा मतदान शुरू किया गया। 11:20 बजे, सांगाखेड़ा, गंगोहगंगोह विधानसभा क्षेत्र के गांव सांगाखेड़ा स्थित प्राथमिक विद्यालय मतदान केंद्र पर प्रधान के समर्थकों की भीड़ दिखी। एक एजेंट मतदान केंद्र से बाहर निकला ही था कि पीछे से पुलिसकर्मी ने उसे अंदर बुलाया और दोबारा ऐसा न करने की हिदायत दी। यहां बूथ संख्या 118 और 120 पर पुनर्मतदान के लिये लोग लाइन में खड़े दिखे। बूथ संख्या 120 पर अधिक भीड़ थी। करीब साढे 11 बजे तक दोनों बूथों पर 50 मतदान हो चुका था। केंद्र के बाहर एजेंट और पुलिसकर्मी का विवाद निपटा तो अंदर एजेंट और पीठासीन अधिकारी में बहस शुरू हो गई। दोनों एक-दूसरे को नियमों का पाठ पढ़ाते रहे। 11:36 बजे, गांव पीरमाजरा, गंगोहगांव पीरमाजरा गंगोह विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आता है। यहां पहले से ही एक पार्टी के बड़े नेता ग्रामीणों से गुफ्तगु करते मिले। नेताजी ने पुनर्मतदान में प्रत्येक वोटर का मतदान सुनिश्चित कराने पर जोर दिया। गांव स्थित प्राथमिक विद्यालय के मतदान केंद्र पर करीब 20 लोग लाइन में लगे थे। यहां बूथ संख्या 115 पर पुनर्मतदान किया गया। करीब साढ़े 11 बजे तक कुल 1110 में से 477 मदताताओं ने मतदान किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: The voters coming out of the house early in the morning to rebuild