DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  सहारनपुर  ›  सीबीएसई 12वीं परीक्षा को लेकर अटकलों का दौर, उलझन में छात्र
सहारनपुर

सीबीएसई 12वीं परीक्षा को लेकर अटकलों का दौर, उलझन में छात्र

हिन्दुस्तान टीम,सहारनपुरPublished By: Newswrap
Wed, 26 May 2021 07:00 PM
सीबीएसई 12वीं परीक्षा को लेकर अटकलों का दौर, उलझन में छात्र

सीबीएसई 12वीं की परीक्षा को लेकर कयासबाजी का दौर थम नहीं रहा है। वार्षिक परीक्षाओं को लेकर छात्र और अभिभावक उलझन में हैं। परीक्षा की संभावित तिथियां बताने के साथ ही परीक्षा पैटर्न, अंक प्रणाली और प्रश्न पत्र सॉल्व करने के समय तक में बदलाव के दावे किए जा रहे हैं। केंद्र में सभी राज्य से लिखित में जवाब मांग कर प्रस्ताव पेश करने का निर्देश दिए थे। इन प्रस्तावों पर विचार विमर्श करने के बाद 30 मई तक कोई फैसला किया जा सकता है। संभावना है कि जुलाई में सीबीएसई 12वीं की परीक्षा होगी।

दूसरी ओर परीक्षाओं के आयोजन को लेकर सीबीएसई दो तारीखों पर विचार कर रहा है। पहला सिर्फ मेजर सब्जेक्ट की परीक्षा निर्धारित सेंटरों पर कराई जा सकती है। इन परीक्षाओं के नंबर को आधार बनाकर माइनर सब्जेक्ट में भी नंबर दिए जा सकते हैं। इस विकल्प के तहत परीक्षा करवाने के लिए प्री एग्जाम के लिए एक महीना, एग्जाम और रिजल्ट डिक्लेअर करने के लिए दो महीने और कंपार्टमेंट एग्जाम के लिए 45 दिन का समय चाहिए होगा। इस विकल्प को अपनाया जा सकता है।

दूसरे विकल्प में सभी सब्जेक्ट की परीक्षा के लिए डेढ़ घंटे अर्थात 90 मिनट का समय निर्धारित करने का सुझाव दिया गया है। साथ ही पेपर में सिर्फ ऑब्जेक्टिव या शॉट प्रश्न ही पूछने की सलाह दी है। इस तरह 45 दिन में ही परीक्षा करवाई जा सकती है। इसमें कहा गया है कि 12वीं के बच्चों के मेजर सब्जेक्ट की परीक्षा उनके ही स्कूल में ले ली जाए। साथ ही सेंटर की संख्या बढ़ाकर दोगुनी कर दी जाए। सुझाव में कहा गया है कि एग्जाम में एक पेपर भाषा से संबंधित और तीन पेपर इलेक्टिव सब्जेक्ट का रखा जाए। पांचवें व छठे सब्जेक्ट के नंबर इलेक्टिव सब्जेक्ट में मिले नंबर के आधार पर दिए जाए।

-क्या कहते है छात्र और अभिभावक

छात्र अंकुल ने बताया कि परीक्षाओं के आयोजन को लेकर अब असमंजस में हैं। छात्र मई में तय की गई परीक्षाओं के लिए तैयार थे, लेकिन अब उनका मन बदल चुका है। छात्रों का मूल्यांकन, उनका प्रैक्टिकल परीक्षा के आधार पर किया जा सकता है। उसी आधार पर छात्रों को अंक निर्धारित किए जाएं।

अभिभावक ब्रिजेश पुंडीर ने बताया कि जान है तो जहान है। छात्रों की परीक्षा को लेकर कई निर्णय लिए गए। अब फिर से सीबीएसई 12वी की परीक्षा कराने को लेकर विचार चल रहा है। परीक्षा में छात्रों को सुरक्षित रखने की तय होनी चाहिए।

संबंधित खबरें