DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  सहारनपुर  ›  पॉजिटिव सोच और अपनों के सपोर्ट से जल्द हुए रिकवर

सहारनपुरपॉजिटिव सोच और अपनों के सपोर्ट से जल्द हुए रिकवर

हिन्दुस्तान टीम,सहारनपुरPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 05:30 PM
पॉजिटिव सोच और अपनों के सपोर्ट से जल्द हुए रिकवर

कोरोना संक्रमित मरीजों के लिए होम आइसोलेट सुविधा न केवल बेहतर विकल्प बना है बल्कि रिकवरी भी अस्पतालों में भर्ती मरीजों की तुलना में जल्दी हो रही है। मरीजों की पॉजिटिव सोच के साथ उनको परिवार का भावनात्मक सपोर्ट भी मिल रहा है। अधिकतर मरीज 10 दिन के भीतर ही स्वस्थ हो रहे हैं। सहारनपुर जिले में लगभग 1150 मरीज अभी होम आइसोलेट हैं।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर विक्रम सिंह पुंडीर के मुताबिक अधिकतर मरीज अस्पतालों में भर्ती नहीं होना चाहते हैं। इसके चलते ही पॉजिटिव मरीजों के संपर्क में आए लोग सैम्पल कराने के लिए आगे कम आ रहे थे। होम आइसोलेट की सुविधा लागू होने के बाद सैम्पल के लिए आगे आने लगे हैं। सामान्य वायरल में भी रैपिड एंटीजन करवा रहे हैं। इसमें निगेटिव रिपोर्ट आने पर आरटीपीसीआर सैम्पल करवाने का आग्रह भी कर रहे हैं। इससे संक्रमण के फैलाव रोकने में भी मदद मिल रही है।

कोविड-19 नोडल अधिकारी शिवांका गौड़ ने बताया कि सहारनपुर जिले में अब तक 26 हजार से अधिक पॉजिटिव मरीजों ने होम आइसोलेट में रहकर कोरोना को मात दी। बिना लक्षण और हल्के लक्षण वाले मरीज होम आइसोलेट का विकल्प चुन रहे हैं। प्रोटोकॉल मानकों के अनुरूप होम आइसोलेट की उपयुक्त सुविधा होने पर घर पर रहने की अनुमति भी दी जा रही है। होम आइसोलेट मरीजों की रिकवरी अस्पतालों की तुलना में जल्दी हो रही है। इसकी बड़ी वजह मरीजों की सकारात्मक सोच और परिवार के सदस्यों का भावात्मक सपोर्ट है। मरीज भले ही पृथक कक्ष में रहता है, लेकिन घर पर होने से मनोवैज्ञानिक सकारात्मक असर पड़ रहा है। खुद को सुरक्षित महसूस करता है। इसमें जल्दी ठीक हो रहे हैं।

संबंधित खबरें