DA Image
Sunday, December 5, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश सहारनपुरहरियाणा में चल रहे अवैध खनन से सहारनपुर में खनन कारोबार चौपट

हरियाणा में चल रहे अवैध खनन से सहारनपुर में खनन कारोबार चौपट

हिन्दुस्तान टीम,सहारनपुरNewswrap
Thu, 08 Jul 2021 04:10 AM
हरियाणा में चल रहे अवैध खनन से सहारनपुर में खनन कारोबार चौपट

हरियाणा में हो रहे अवैध खनन और उसके अवैध परिवहन ने सहारनपुर सहित पूरे उत्तर प्रदेश के खनन व्यापारियों की कमर तोड़ कर रख दी है। हरियाणा में हो रहे लगातार अवैध खनन की कई बार सम्बंधित विभाग को शिकायत की गई लेकिन किसी ने अभी तक इनकी सुध नही ली। सहारनपुर के खनन व्यापारियों ने खनन निदेशक लखनऊ को एक पत्र भेजकर हरियाणा से हो रहे अवैध खनन के अवैध परिवहन के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की।

सहारनपुर की सीमा से हरियाणा सटा हुआ है जिसमे हरियाणा का यमुनानगर जिला सहारनपुर से सटा हुआ जिला है। इन दोनों जिलों के बीच से यमुना नदी बह रही है और इस नदी से भारी मात्रा में हरियाणा के खनन माफिया खनन करते हैं। हाल फिलहाल में एक जुलाई को हरियाणा के खनन निदेशक ने एक पत्र के जरिए खुलासा किया था कि हरियाणा में गोवा दमन एवं दीव उड़ीसा महाराष्ट्र असम मिजोरम बिहार आदि राज्यों से यमुनानगर के स्टोन क्रेशर पर कच्चा माल लाया जाता है जहां इसे तैयार कर उत्तर प्रदेश के कई जिलों में भेजा जाता है, जिससे उत्तर प्रदेश सरकार को करोड़ों रुपए का चूना हर माह लगाया जा रहा है।

इस पर सहारनपुर के खनन व्यापारियों ने आपत्ति जतायी कि इतने दूर के राज्यों से कच्चा माल लाना असंभव है क्योंकि जिस रेट पर हरियाणा से तैयार माल यूपी में भेजा जा रहा है उससे अधिक तो इन राज्यों से कच्चा माल मंगाने का भाड़ा लग जाता है जिससे यह तो साफ है कि केवल इन राज्यों के प्रपत्रों पर अवैध खनन का भंडारण किया जा रहा है।

यही नहीं उत्तराखंड के विभिन्न जिलों से सस्ती परिवहन प्रपत्र खरीद कर दिखाकर तथा आसपास से अवैध खनन कर तथा भंडारण में हेरी फेरी कर सस्ती खनन सामग्री थाना बिहारीगढ़ की सीमा से जनपद सहारनपुर तथा अन्य जनपदों में उपलब्ध करा रहे हैं। जिससे सहारनपुर के खनन व्यापारियों को करोड़ों रुपए का नुकसान हो रहा है। खनन व्यापारी मुशर्रफ, वीरेंद्र, आकाश, गुरमेल सिंह आदि ने खनन निदेशक लखनऊ को शिकायत में कहा है कि जनपद सहारनपुर में स्टोन क्रेशर जो कच्चा माल खरीदते हैं उसका वेद स्रोत सरकार द्वारा आवंटित पांच वर्षीय खनन पट्टे तथा कृषि भूमि व निजी भूमि पर स्वीकृत खनन पर अमित मात्र है। जिसकी रॉयल्टी अन्य राज्यों की अपेक्षा अधिक है। सहारनपुर में केवल सहारनपुर से क्रय किए गए खनिज के प्रपत्र एमएम-11 से ही परिवहन पर पत्र फार्म सी निर्गत किया जाता है। जिसके कारण जनपद का स्टोन क्रेशर महंगी खनन सामग्री क्रय विक्रय के लिए मजबूर है। लेकिन इससे राज्य सरकार को काफी मात्रा में राजस्व की प्राप्ति होती है और हरियाणा से आने वाले अवैध खनन के कारण राज्य सरकार को भारी नुकसान हो रहा है।

-----

रोशन गिरि

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें