DA Image
17 जनवरी, 2021|8:23|IST

अगली स्टोरी

टीबी मरीजों की तलाश के लिए घर-घर जाएंगे स्वास्थ्य कर्मी

default image

टीबी हारेगा, देश जीतेगा अभियान के तहत टीबी मरीजों की तलाश की जाएगी। जिले की 20 प्रतिशत आबादी में विशेष कर शहरी व ग्रामीण क्षेत्र की मलिन बस्तियों में दस दिन तक चलने वाले अभियान में टीमें रोगियों को चिह्नित करेंगी। इसके बाद उनकी दवा शुरू होगी और अन्य सुविधाएं मुहैया कराई जाएंगी। इस कार्य में 245 टीमें लगाई गई हैं। इस दौरान मरीज की शुगर, एचआईवी की जांच भी कराई जाएगी।

सरकार ने क्षय रोग उन्मूलन का 2025 तक का लक्ष्य रखा है। स्वास्थ्य विभाग क्षय रोग को लेकर गंभीर है। कोरोना के चलते मरीजों को चिह्नित करने का कार्य प्रभावित हो गया था। अब अधिक से अधिक क्षय रोगियों को चिह्नित कर इलाज करने की कवायद शुरू हो गई है। अभियान के दूसरे चरण में जिले में दो से 12 जनवरी तक सक्रिय टीबी रोगी खोज अभियान चलेगा। चार एसीएमओ की देखरेख जिले की जनसंख्या के 20 प्रतिशत आबादी में अभियान चलेगा।

इसके तहत टीम शहरी व ग्रामीण मलिन बस्तियों तथा अत्यधिक जोखिम वाले क्षेत्र में घर-घर जाएगी और लोगों को क्षय रोग के लक्षण के बारे में जानकारी देगी।

लक्षण मिलने पर संभावित मरीज का सैंपल लेकर जांच के लिए नजदीक के केंद्र पर भेजी। जांच रिपोर्ट में पुष्टि होने के बाद इलाज शुरू हो जाएगा। अन्य सुविधाएं भी मरीज को मुहैया कराई जाएंगी। क्षय रोग विभाग की ओर से अभियान की सारी तैयारी पूरी कर ली गई हैं। जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ. राजेश जैन ने बताया कि अभियान में 245 टीमें लगाई गई है। प्रत्येक टीम में तीन सदस्य होंगे, जिसमें आशा, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व कम्यूनिटी वालंटियर शामिल होंगे। इनकी निगरानी के लिए 47 सुपरवाइजर लगाए गए। इसके साथ ही 13 चिकित्सकों को भी तैनात किया गया है।

तीसरा चरण 13 से 25 जनवरी तक चलेगा

तीसरे चरण का अभियान 13 से 25 जनवरी तक चलेगा। टीम जनपद के निजी चिकित्सक, चिकित्सालयों, निजी प्रयोगशालाओं, निजी केमिस्ट के यहां जाकर संपर्क करेगी। साथ ही क्षय रोगी के बारे में सूचना प्राप्त करेगी और उन्हें सरकार की ओर से मिलने वाली सुविधाएं उपलब्ध कराएगी।

वृद्धाश्रम में रहने वाले लोगों की स्क्रीनिंग

टीबी हारेगा-देश जीतेगा अभियान के तहत शुक्रवार स्वास्थ्य विभाग की टीम जेवी जैन कॉलेज रोड स्थित मानव मंदिर वृद्धाश्रम पहुंची। यहां रहने वाले लोगों की स्क्रीनिंग की गई। पहले चरण में जेल, वृद्धाश्रम, नारी निकेतन, बालिका आश्रम, मदरसों में 24 टीमों की मदद से टीबी के रोगियों को खोजा गया। अभियान में जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ. राजेश जैन, डॉ. आशीष कुमार, वरिष्ठ क्षय रोग लैब पर्यवेक्षक एमपी सिंह चावला, संदीप मौर्या, मुकेश कुमार, परवेंद्र यादव, अशोक पंवार, संजय कुमार आदि शामिल रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Health workers will go door-to-door to search for TB patients