DA Image
31 जुलाई, 2020|6:47|IST

अगली स्टोरी

हरियाली तीज: पहली बार झूले पड़े न गाई गई मल्हार

default image

तीज पर पहली बार न झूले पड़े और न ही मल्हार गाया गया। बन्दिशों के बीच एतियाहतन महिलाओं ने घर पर ही रहकर तीज मनाई। पति की लंबी आयु के लिए व्रत रखा और सहेलियों को ऑनलाइन शुभकामनाएं दी। कोरोना संक्रमण के कारण हालात जरूर अलग हैं, लेकिन तीज त्योहार मनाने को लेकर सुहागिन महिलाओं में उत्साह कतई कम नहीं था।

वैसे तो हरियाली तीज के त्योहार पर महिलाओं की टीम झूले के हिलोरें लेते हुए सावन के गीत गाते नजर आतीं है लेकिन इस बार हालातों को देख उन्होंने अपने घरों पर ही पर्व मनाया। कोरोना के कारण महिलाओं ने घर पर ही मेहंदी रचाई। गुरुवार को हरियाली तीज के मौके पर महिलाओं ने भगवान शिव और पार्वती की पूजा की और श्रंगार किया। घरो पर ही पकवान बनाये गए।

महिलाओं ने घर पर झूले तो डाले थे लेकिन सखियों के संग झूल और मंगल गीत नही गा पाई। नवविवाहित महिलाओं में पहली तीज को लेकर उत्साह देखा गया लेकिन सुरक्षा को लेकर सजग भी दिखी। तीज पर सामुहिक कार्यक्रम भी नही हुए। बेटियों के घर सिंधारा में हाथ के बनाये व्यंजन भेजे गए।

ऑनलाइन सहेलियों को दी शुभकामनाएं

महिलाओं में सहेलियों संग झूला झूलने का मलाल तो था लेकिन तीज के प्रति आस्था भी थी। महिलाओं ने अपनी सहेलियों को वीडियो कॉल, और व्हाट्सएप के माध्यम से शुभकामनाएं भेजी। इसके साथ ही सुहागिनों ने श्रंगार कर फेसबुक पर पोस्ट भी अपलोड की।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Hariyali Teej For the first time the swinging Malhar is not sung