DA Image
25 नवंबर, 2020|4:07|IST

अगली स्टोरी

हादसों को दावत दे रहे लटकते जर्जर बिजली के तार

default image

सड़कों पर झूल रहे जर्जर बिजली के तार हादसों को दावत दे रहे हैं। इन तारों से कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है। साथ ही कई स्थानों पर गार्डिंग भी नहीं कराई गई हैं। बावजूद इसके कई मोहल्लों में अभी भी खुले जर्जर तार लगे हुए हैं। जिनसे अक्सर हादसे होते रहते हैं। लेकिन अधिकारी इस ओर कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं।

जर्जर बिजली के तारों से अक्सर घटनाएं होती रहती हैं। तारों में गार्डिंग न होने से तेज हवा व आंधी के समय वह आपस में टकराते हैं। स्पार्किंग होने से चिंगारिया निकलतीं हैं। जिससे आग लगने का खतरा भी बना रहता है। शहर में लेबर कालोनी, गलीरा रोड, दिल्ली रोड पर बरसात के मौसम में जल भराव रहता है।

देवबंद, गंगोह, नकुड़, बेहट, रामपुर मनिहारान आदि देहात क्षेत्रों में बिजली तार पूरी तरह से जर्जर स्थिति में पहुंच चुके हैं। ऐसे में अगर बिजली का तार टूटकर गिर जाए। तो बड़ा हादसा हो सकता है। बिजली के तार सड़क पर काफी नीचे हैं। ऐसे में वहां से गुजरने वाले वाहन चालकों को हादसे का डर सताता रहता है।

शहर के लोगों को जर्जर तारों से छुटकारा दिलाने के लिए कई बार अभियान चलाया गया। जिसके तहत कई मोहल्लों में पुराने तारों को हटाकर नए तार लगवाए गए। लेकिन कुछ ही समय में अभियान ठप हो गया। अभी भी कई मोहल्लों में खुले जर्जर बिजली के तार झूल रहे हैं। जिससे तार एक दूसरे में चिपके रहते हैं। हवा चलने पर वह आपस में टकराते हैं। बिजली विभाग के अधिकारी इस ओर कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं।

वर्जन

जर्जर बिजली तारों को बदलने के लिए अभियान चलाया जाता है। तार के टूटने पर तुरंत बिजली कर्मियों को मौके पर भेजकर उन्हें सही कराने का काम किया जाता है। कई स्थानों पर तारों में गार्डिंग कराई गई हैं।

- पंकज श्रीवास्तव, अधीक्षण अभियंता, विद्युत निगम

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Hanging electric wires feasting on accidents