DA Image
20 अक्तूबर, 2020|4:56|IST

अगली स्टोरी

ईडी ने खनन माफिया और पूर्व बसपा विधायक इकबाल पर दर्ज की एफआईआर

ईडी ने खनन माफिया और पूर्व बसपा विधायक इकबाल पर दर्ज की एफआईआर

बसपा के पूर्व एमएलसी व सहारनपुर के खनन माफिया मोहम्मद इकबाल से ईडी जल्द पूछताछ कर सकती है। ईडी ने इकबाल के खिलाफ पीएमएलए के तहत मामला दर्ज किया है। मोहम्मद इकबाल पर 100 से ज्यादा फर्जी कंपनियों के जरिए करोड़ों की ब्लैक मनी इधर से उधर करने का आरोप लगा है।

ईडी की सीरियस फ्रॉड इंवेस्टिगेशन विंग ने मो. इकबाल के खिलाफ दाखिल की गई चार्जशीट को आधार बनाकर ईडी ने यह केस दर्ज किया है। ईडी इकबाल के खिलाफ एक अन्य मामले की भी जांच कर रही है। यह कार्रवाई इकबाल की शेल कंपनियों की जांच के बाद अदालत में दाखिल की गयी चार्जशीट के आधार पर किया है।बाबू सिंह कुशवाहा का करीबीईडी अधिकारियों का कहना है कि मोहम्मद इकबाल एनआरएचएम घोटाले के आरोपी और पूर्व मंत्री बाबू सिंह कुशवाहा का करीबी भी रहा है। ईडी जब बाबू सिंह कुशवाहा की जांच कर रही थी उस दौरान मोहम्मद इकबाल का नाम सामने आया। तभी ईडी ने उसे निशाने ले लिया। मोहम्मद इकबाल के खिलाफ ईडी के अलावा अन्य जांच एजेंसियां भी इकबाल के बारे में पड़ताल कर रही हैं। सेव इंडिया ग्रुप नामक संस्था ने इकबाल के खिलाफ सभी एजेंसियों में शिकायत की है। उससे जुड़े तमाम साक्ष्य भी दिए हैं।दस साल में अरबों की संपत्तिसहारनपुर में दस साल पहले लकड़ी की मामूली टाल और फलों की दुकान लगाने वाले मोहम्मद इकबाल के पास अब अरबों रुपये की संपत्तियां है। जांच में ज्यादातर कंपनियों के डायरेक्टर नौकर, खानसामा और ड्राइवर निकले। वहीं करीब 84 कंपनियों के पते भी फर्जी पाए गये थे। ईडी ने इकबाल के अपनी ही यूनिवर्सिटी को दिए गए संदिग्ध डोनेशन और 11 शुगर मिल खरीदने की जांच भी शुरू की तो बाकी एजेंसियां ने भी अपना शिकंजा कसना शुरू कर दिया। सहारनपुर जिला प्रशासन भी अवैध खनन के कई मामलों में इकबाल और उनके परिजनों के खिलाफ कई बार एक्शन ले चुका है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title: ED lodged FIR against mining mafia and former BSP legislator Iqbal