DA Image
3 जुलाई, 2020|10:06|IST

अगली स्टोरी

कोरोना के चलते सीज हुई मंडी की नहीं हो सकी कोई वैक्लपिक व्यवस्था

default image

नवीन सब्जी मंडी में कोरोना संक्रमित पल्लेदार (मजदूर) मिलने के बाद पिछले दो दिनों से मंडी के बंद होने के चलते फलो के सीजन में व्यापारी और किसान परेशान है। इतना ही नहीं जहां मंडी को लाखों रुपये शुल्क का प्रतिदिन नुकसान हो रहा है वहीं आढ़तियों और किसानों को भी खासा नुकसान हो रहा है।

नगर की नवीन सब्जी पिछले दो दिनों से बंद हैं। जिसके चलते जहां लाखों रुपये का मंडी शुल्क प्रतिदिन नुकसान हो रहा है। वहीं प्रतिदिन क्षेत्र के ढ़ाई सो किसानों को प्रतिदिन उनकी फसल का लाखों रुपये का नुकसान हो रहा है। हालांकि बुधवार को क्षेत्र के व्यापारी नागल सहित दूसरें क्षेत्रों से सब्जी खरीदकर लाए जिन्हें उन्होंने लाकर देवबंद में बेंचा। हालांकि किसानों ने क्षेत्र में दो तीन जगहो पर रखकर सब्जियां बेची।

इतना ही नहीं फल ठेकेदारों को अपने फल सहारनपुर मंडी लेकर जाने को मजबूर होना पड़ रहा है। लेकिन प्रशासन ने मंगलवार को मंडी सील करने के बाद अभी तक कोई वैक्लपिक व्यवस्था नहीं की है। जिससे किसान और फल ठेकेदार ही नहीं व्यापारियों को भी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

मंडी बंद होने से प्रतिदिन जहां शासन को लाखों रुपये मंडी शुल्क का नुकसान उठाना पड़ रहा है वहीं सब्जी किसानों और फल ठेकेदारों को भी प्रतिदिन नुकसान उठाने को मजबूर होना पड़ रहा है। मंडी समिति के सचिव अरविंद कुमार ने बताया कि अभी मंडी खोलने या किसी अन्य जगह पर मंडी लगाए जाने के प्रशासन से कोई निर्देश नहीं मिले हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Due to corona there was no alternative arrangement for the mandi market