DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  सहारनपुर  ›  ठगी के शिकार लोगों की मददगार साबित हुआ साइबर थाना

सहारनपुरठगी के शिकार लोगों की मददगार साबित हुआ साइबर थाना

हिन्दुस्तान टीम,सहारनपुरPublished By: Newswrap
Mon, 24 May 2021 10:50 PM
ठगी के शिकार लोगों की मददगार साबित हुआ साइबर थाना

सहारनपुर में 26 अगस्त 2020 को साइबर क्राइम थाना बना था। जिसके बाद से ही साइबर क्राइम थाना पुलिस लगातार साइबर ठगी करने वाले अपराधियों पर शिकंजा कस रही है। खास बात यह है कि अब साइबर पुलिस टीम ठगी का शिकार हुए लोगों के लिए बड़ी मददगार साबित हो रही है। तमाम मामलों में पुलिस ने ठगी की धनराशि को वापस कराया है। साइबर थाना पुलिस की माने तो अब तक करीब 30 लाख रुपये से अधिक की धनराशि को वापस कराय जा चुका है। कई मामलों में अपराधियों को गिरफ्तार कर जेल भी भेजा गया है।

केस एक : स्मार्ट सिटी योजना में कार्यरत एक कर्मचारी के खाते से 14 लाख रुपये की ठगी हुई। जिसकी शिकायत साइबर क्राइम थाने में की गई। पुलिस ने तवरित कार्रवाई करते हुए मामले की छानबीन की और पीड़ित के पैसे उसके खाते में वापस करा दिए।

केस दो : पंत विहार निवासी एक महिला के खाते से करीब चार लाख रुपये की ठगी हुई। महिला ने इसकी शिकयत तुरंत की साइबर क्राइम थाने में की। जिसके बाद पुलिस ने कार्रवाई करते हुए ठगी में गई पूरी रकम खाते में वापस करा दी। ये एक दो नहीं बल्कि तमाम ऐसे मामले हैं। जिसमें साइबर क्राइम थाना पुलिस ने पीड़ितों के खाते में पैसे वापस कराए हैं।

लोन देने के नाम पर ठगी के आरोपियों को भेजा था जेल

करीब चार माह पहले लोन देने के नाम पर एक युवक के साथ ठगी हुई थी। ठगी के शिकार युवक ने आत्महत्या कर लीथी। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर मामले की छानबीन की थी। जिसके बाद पुलिस ने एक गिरोह का भांडाफोड़ किया था और 18 लोगों को मुकदमें में अभियुक्त बनाया था। जिनमें से कई को गिरफ्तार कर जेल भी भेज दिया था।

लगातार रखी जा रही है नजर

एसएसपी डॉ. एस चनप्पा ने बताया कि साइबर ठगी के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। ऐसे में साइबर क्राइम थाना टीम को अलर्ट किया गया है। कोरोना काल में लोगों को इस तरह की ठगी से बचाने के लिए टीम साइबर अपराधियों पर पैनी नजर रख रही है। जिससे अपराधियों पर कार्रवाई की जा सके।

संबंधित खबरें