Bhakiyu will roar at every district headquarters on 21st Rakesh Tikait - 21 दिसंबर को प्रत्येक जिला मुख्यालय पर गरजेगी भाकियू-राकेश टिकैत DA Image
14 दिसंबर, 2019|5:23|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

21 दिसंबर को प्रत्येक जिला मुख्यालय पर गरजेगी भाकियू-राकेश टिकैत

21 दिसंबर को प्रत्येक जिला मुख्यालय पर गरजेगी भाकियू-राकेश टिकैत

किसान जन जागरण अभियान में भाकियू राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि सरकार किसानों को खत्म करना चाहती है। मिल मालिकों से मिली हुई हैं। यही कारण है कि किसानों का अभी तक गन्ना बकाया भुगतान नहीं हो सक। 21 दिसंबर को भाकियू प्रत्येक जिला मुख्यालय पर धरना प्रदर्शन करेंगी।

बुधवार को भारतीय किसान यूनियन के जन जागरण अभियान के तहत आयोजित तहसील स्तरीय किसान पंचायत में भाकियू राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि किसानों को स्वयं चिंतन करना होगा कि हमारे गन्ना का भुगतान क्यों नहीं हो रहा है, खाद, बिजली व पानी सब महंगें हैं, किसान को लोन देकर उसकी जमीन को गिरवी रखकर उसे कंगाल किया जा रहा है, सरकार कृषि उपज के भाव नहीं बढ़ा रही है तथा दूध और फल को भी प्रतिबंधित करने की तैयारी है, विगत माह सरकार दूसरे देशों से दूध समझौता कर रही थी, जिससे विदेशी कंपनी गांव में आकर अपना दूध 30 लीटर बेचती तथा हम अपने दूध को लाइसेंस लेकर ही बेच पाते। उन्होंने कहा कि इसी तरह सरकार बीज कानून लाने की भी तैयारी कर रही है। यदि यह समझौता लागू हुआ तो हम अपना बीज नहीं वो सकेंगे सरकारी कंपनी से बीज लेकर ही खेती करनी होंगी, उन्होंने कहा कि सरकार बड़ी कंपनियों को लाइसेंस देखकर पटरी, खोमचा व रेहड़ी वालों को भी समाप्त कर रही है जिससे करीब साढे चार करोड़ परिवार जुड़े हैं वह सब मजदूर हो जाएंगे और विदेशी दबाव में सरकार गन्ने का भाव 50 रुपए प्रति कुंतल कम करने की भी तैयारी कर रही है।

उन्होंने बताया कि 21 दिसंबर को भारतीय किसान यूनियन प्रदेशभर में किसान हल क्रांति आंदोलन करेगी जिसके तहत सभी जिला मुख्यालयों पर किसान अपने कृषि यंत्र लेकर प्रदर्शन करेंगे तथा अपनी मांगों को लेकर एक ज्ञापन देते हुए सरकार को अपनी ताकत का एहसास कराएंगे कि यदि किसानों के साथ कुछ गलत किया गया तो किसान ईंट से ईंट भी बजा सकते हैं। भाकियू के प्रदेश उपाध्यक्ष चौधरी विनय कुमार ने कहा कि सरकार किसानों को कोर्ट का आदेश दिखाकर पराली व फसलों के अवशेष जलाने से रोक रही है जबकि सरकार कोर्ट के उस आदेश का पालन नहीं कराती, जिसमें 14 दिन के अंदर किसानों के गन्ने का भुगतान कराना है। ऐसे में यदि कोई हमें पराली जलाने से रोकता है तो उससे भी हमें अपने तरीके से निपटना होगा। पंचायत में भाकियू प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य सरदार मनमोहन सिंह, अरुण राणा, रामकुमार वालिया, नवाब सिंह, चौधरी चरण सिंह, जगपाल सिंह, राजपाल पनियाली, रणवीर सिंह आदि ने भी अपने विचार रखे। इससे पूर्व राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत का हाईवे स्थित चौधरी पेट्रोल पंप पर जोरदार स्वागत किया गया, उसके बाद ढोल नगाड़ों की थाप पर नाचते गाते किसान उन्हें सभा स्थल तक ले गए। इस दौरान योगेंद्र पप्पू, आलोक चौधरी, संजील चौधरी, सुशील प्रधान, विजेंद्र काला, अशोक सतबीर, रजनीश नौसरान, पिरथी सिंह, इमरान, अनुज सोमवाल, आजाद सिंह, स्वतंत्र चौधरी आदि मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Bhakiyu will roar at every district headquarters on 21st Rakesh Tikait