ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश सहारनपुरबरेली एसटीएफ का सहारनपुर में छापा, पांच चरस तस्कर दबोचे

बरेली एसटीएफ का सहारनपुर में छापा, पांच चरस तस्कर दबोचे

बरेली एसटीएफ ने बिहार से सहारनपुर तक हो रही चरस तस्करी का खुलासा किया है। टीम ने पांच तस्करों को पकड़ा है, जिसमें दो महिलाएं भी शामिल हैं। खास बात...

बरेली एसटीएफ का सहारनपुर में छापा, पांच चरस तस्कर दबोचे
हिन्दुस्तान टीम,सहारनपुरSat, 09 Dec 2023 12:15 AM
ऐप पर पढ़ें

बरेली एसटीएफ ने बिहार से सहारनपुर तक हो रही चरस तस्करी का खुलासा किया है। टीम ने पांच तस्करों को पकड़ा है, जिसमें दो महिलाएं भी शामिल हैं। खास बात है कि महिलाओं से ही बिहार से सहारनपुर तक चरस मंगवाई जाती थी। इसके बाद मिर्जापुर क्षेत्र में सप्लाई की जा रही थी।

पुलिस अफसरों के मुताबिक, बिहार से सहारनपुर के मिर्जापुर में काफी समय से चरस की तस्करी की जा रही थी। इसकी खबर बरेली एसटीएफ को लग गई थी। बरेली एसटीएफ की एक टीम तस्करों के पीछे लग गई। गुरुवार देर शाम जैसे ही बिहार से चरस की खेप लेकर तस्कर सहारनपुर में पहुंचे तो एसटीएफ ने बेहट अड्डे से पांच तस्कर सूरज तिवारी पुत्र राजेश्वर तिवारी, रामगढ़वा जिला मोतिहारी बिहार, वीना देवी पत्नी हरी बकाली गांव मझोलिया रामगढ़वा मोतिहारी बिहार, विंदा देवी पत्नी सतेंद्र पांडेय रामगढ़वा बिहार, अब्दुल बवाह और उसके बेटे फरदीन निवासी मिर्जापुर थाना मिर्जापुर सहारनपुर को गिरफ्तार किया। इनके कब्जे से तस्करी कर लाई गई 15 किग्रा. चरस भी बरामद की गई है।

सभी को पकड़ने के बाद एसटीएफ की टीम मंडी थाने पर पहुंची। जहां पर एसटीएफ के दरोगा राशिद अली की तहरीर के आधार पर पांचों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया। सभी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

---

महिलाएं करती थी चरस लाने का काम, एक चक्कर के मिलते थे 20 हजार

-मिर्जापुर के अब्दुल वहाब अपने बेटे फरदीन के साथ करता था सप्लाई

सहारनपुर, संवाददाता

चरस तस्करों से पूछताछ में बड़ा खेल सामने आया है। गिरोह का नेटवर्क, सहारनपुर, बरेली से लेकर बिहार तक फैला हुआ था। बिहार से तस्करी के लिए महिलाओं को लगाया गया था। जो सामान के बैग में छुपाकर चरस लाती थी।

अब्दुल वहाब ने बताया कि उसका बेटा मिर्जापुर क्षेत्र में पैडलर के माध्यम से चरस की तस्करी गांव-गांव करता है। वह चरस की खेप बिहार के एक मास्टर से लाता था। हालांकि, उनकी मोबाइल पर ही बात हेाती थी। डील होने के बाद महिलाओं को ट्रेन से सहारनपुर भेजा जाता था। जो अपने सामान में दो से तीन किलो चरस लेकर आती थी। किसी को शक न हो तो इसके लिए उम्र दराज महिलाओं को लगाया जाता है। एक बार चरस की खेप बिहार से सहारनपुर पहुंचाने के लिए उन्हें 20 हजार रुपये तक मिल जाते थे।

वर्जन

बरेली एसटीएफ ने चरस तस्करी करने वाले गिरोह के पांच तस्करों को गिरफ्तार किया है। इनके कब्जे से तस्करी कर लाई गई 15 किग्रा चरस भी बरामद की है।

-अभिमन्यु मांगलिक, एसपी सिटी सहारनपुर।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें