DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  सहारनपुर  ›  हर तीसरे दिन निकाला जाता था अवैध शराब का एक ट्रक
सहारनपुर

हर तीसरे दिन निकाला जाता था अवैध शराब का एक ट्रक

हिन्दुस्तान टीम,सहारनपुरPublished By: Newswrap
Wed, 02 Jun 2021 05:51 PM
हर तीसरे दिन निकाला जाता था अवैध शराब का एक ट्रक

एसआईटी ने टपरी डिस्टीलरी में टैक्स चोरी के मामले में चार्जशीट दाखिल कर दी है। जिसके बाद यह मामला एक बार फिर सुर्खियों में आ गया है। एसआईटी की तफ्तीश में कई चौंकाने वाले तथ्य सामने आए थे। टैक्स चोरी का यह खेल मार्च 2020 से चल रहा था। इसके बाद 11 माह में 99 बार अवैध शराब के ट्रक फैक्ट्री से निकाले गए। यानी हर तीसरे दिन एक ट्रक अवैध रूप से निकालकर सरकार को राजस्व का चूना लगाया गया था।

तीन मार्च एसटीएफ लखनऊ और मेरठ की टीम ने सहारनपुर के टपरी स्थित दी कॉपरेटिव डस्टिरली पर छापेमारी की थी। जिसमें टैक्स चोरी का अवैध रूप से शराब की सप्लाई होना पकड़ा गया था। पूरे 20 घंटे तक चली पड़ताल में 100 करोड़ रुपये से अधिक की एक्साइज ड्यूटी और टैक्स चोरी का खुलासा हुआ। इसके बाद देहात कोतवाली में दो एफआईआर दर्ज की गई थी। जिसमें फैक्ट्री, मैनेजर समेत 18 लोगों को अभियुक्त बताया गया था। 10 अभियुक्तों को मौके से गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था।

मामला इतना बड़ा था कि तफ्तीश के लिए एसआईटी लखनऊ को लगाया गया था। एसआईटी की टीम ने सहारनपुर में चार दिन तक रहकर तफ्तीश की थी। जिसके बाद टीम ने एक-एक बिंदू पर तफ्तीश की। फैक्ट्री से कब्जे में लिए गए रिकार्ड में चौंकाने वाले तथ्य सामने आए थे। एसआइटी ने आरोपियों को सहारनपुर में टपरी स्थित देशी शराब फैक्ट्री में आबकारी विभाग के अधिकारियों व स्थानीय आबकारी डिस्ट्रीब्यूटरों की मिलीभगत से करीब 35 करोड़ की टैक्स चोरी करने के मामले में दोषी पाया है।

एसआइटी के अधिकारियों का कहना है कि सहारनपुर स्थित देशी शराब फैक्ट्री कोआपरेटिव कंपनी लिमिटेड के द्वारा एक अप्रैल 2020 से 28 फरवरी 2021 तक 11 माह में 99 बार डबल ट्रिप के जरिये करीब 35 करोड़ रुपये की एक्साइज चोरी की गई। प्रत्येक तीन दिन में एक ट्रक अवैध रूप से निकाला गया था।

---इनके खिलाफ दाखिल हुआ आरोप पत्र

एसआईटी ने यूनिट हेड उपेंद्र गोविंद राव, बॉटलिंग इंचार्ज हरिशरण तिवारी, ईटीपी आपरेटर मांगेराम त्यागी, असस्टिेंट मैनेजर क्वालिटी कंट्रोल संजय शर्मा, केमस्टि अरविंद कुमार, बारकोड डस्पिैचर प्रदीप कुमार, ट्रांसपोर्टर जयभगवान, ट्रक चालक गुलशेर व परिचालक अशोक कुमार के विरुद्ध आरोपपत्र दाखिल किया है। जबकि, फैक्ट्री मालिक प्रणव अनेजा, वीरेंद्र शंखधर, एचआर हेड सोमशेखर, सेल्स हेड अश्वनी और बरेजी के शराब ठेकेदार अजय जायसवाल और आबकारी अधिकारियों की संलप्ति की अभी जांच चल रही है।

0---------

उन्नाव में ट्रक पकड़ने जाने पर खुला था खेल

शराब फैक्ट्री से नकली बार-कोड के जरिए अवैध रूप से शराब की तस्करी का मामला उन्नाव में पकड़ा गया था। जिसके बाद एसटीएफ ने फैक्ट्री को अपनी रडार पर ले लिया था। इसके बाद एसटीएफ काफी दिन तक सबूत एकत्र करती रही। तीन मार्च को मेरठ यूनिट और सहारनपुर टीम केसाथ फैक्ट्री पर छापेमारी की। सबसे पहले ट्रक ड्राइवर को अपने हिरासत में लिया गया था। पूछताछ में ड्राइवर ने अहम राज खोल थे।

संबंधित खबरें