DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कांच ही बांस के बहंगिया लचकत जाए..........

फूलों से सजे सूप में पूजा सामग्री लिए सूर्योदय का इंतजार करती श्रद्धालुओं की भीड़। छठ मईया के जयकारे लगाते नर नारी। छठ मैया के जयकारों से गूंजती फिजां। यह दृश्य था शुक्रवार को छठ व्रत के पारण का। छठ पूजा उत्सव पर शहर में जगह-जगह बनाए गए पूजा स्थलों पर उगते सूरज को अर्घ्य देकर मांगी मनौतियां।

श्रद्धालुओं ने बुधवार को खरना खाकर 36 घंटे का निर्जल व्रत धारण किया। गुरुवार को दिनभर व्रत रखने के बाद शाम को डूबते सूरज को अर्घ्य देकर मनौतियां मांगी। डूबते सूरज को अर्ध्य देने के बाद फिर छठ मैया की आराधना की। शुक्रवार की तड़के ही शहर में बनाए गए अस्थाई पूजा स्थलों में स्थित तालाबों और कोसी नदी के किनारे श्रद्धालुओं की भीड़ जुटनी शुरु हो गई थी। जैसे ही सूर्य उदय हुआ, छठ मैया के जयकारों से वातावरण गूंज उठा। श्रद्धालुओं ने जल में खड़े होकर उगते सूरज को अर्ध्य देकर छठ मैया और सूर्यदेव से परिवार की सुख समृद्धि और दीर्घायु की कामना की। सूर्य को अर्ध्य देने के बाद सामूहिक रूप से छठ मईया की आराधना की।

रातभर पूजा स्थलों पर लगी रही भीड़

गुरुवार की शाम डूबते सूरज को अर्घ्य देने के बाद श्रद्धालुओं ने छठ मैया की पूजा अर्चना शुरु कर दी थी। महिलाओं और पुरुषों से सारी रात विधि विधान से पूजा अर्चना कर मनौतियां मांगी। पूजा स्थल पर रातभर छठ मैया के लोकगीतों से गूंजता रहा। पूजा अर्चना के दौरान घरों और पूजा स्थलों पर लोगों की खासी चहल पहल रही।

भोजपुरी लोकगीतों ने मचाई धूम

रातभर पूजा स्थलों पर भोजपुरी लोकगीतों की धूम मची रही। चार कोना के पोखरवा हम करेली के छठ बरतिया। छठी मईया दी है ललनवा कि सारा घर अजोर हो जाई। कांच ही बांस के बहंगिया लचकत जाए जैसे भोजपुरी गीतों पर लोग रातभर थिरकते रहे।

छठ मईया के उद्घोष से गूंज उठे पूजा स्थल

ज्वालानगर स्थित रजा टैक्सटाइल कालोनी, कृष्णा बिहार स्थित शिव मंदिर, आगापुर मार्ग स्थित लोहिया पार्क और सीआरपीएफ ग्रुप सेंेटर के पास बने पूजा स्थलों पर रातभर श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी। पूजा स्थलों के साथ ही लोगों ने घरों पर भी छठ पूजा की।

चरण स्पर्श कर लिया आशीर्वाद

उगते सूर्य को अर्घ्य देने के बाद श्रद्धालुओं ने छठ पूजा की। इसके पश्चात् अपने बड़ों के चरण स्पर्श कर आशीर्वाद लिया। उन्होंने यथा योग्य दक्षिणा अर्पित की। बड़ों और बुर्जुगों के भी चरण स्पर्श कर आशीर्वाद दिया। पारण के साथ छठ पूजा समरोह का समापन हो गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Women performed fast by giving water to rising sun