DA Image
1 जुलाई, 2020|5:52|IST

अगली स्टोरी

सीएए को लेकर हुई हिंसा के विवेचक एसपी ने बदले

default image

पुलिस अधीक्षक शगुन गौतम ने नागरिकता संशोधन कानून को लेकर रामपुर में हुई हिंसा के विवेचक को पुलिस अधीक्षक ने बदल दिया है। अब घटना की विवेचना इंस्पेक्टर मनोज कुमार को सौंपी गई है।

रामपुर शहर में सीएए और एनआरसी को लेकर हिंसा हो गई थी। उलेमा ने 21 दिसंबर को विरोध प्रदर्शन के लिए ईदगाह मैदान में जलसा बुलाया था। पुलिस और प्रशासन ने इसकी अनुमति नहीं दी थी। इसको लेकर तीन दिन तक उलेमा और अफसरों की वार्ता चली थी। आखिरकार उलेमा ने 20 दिसंबर की देर रात जलसा स्थगित कर शहर में ऐलान कर दिया था। पुलिस और प्रशासन ने भी भीड़ को रोकने के लिए पर्याप्त इंतजाम किए गए थे।

जगह-जगह बेरिकेडिंग की गई थी, लेकिन हाथीखाना चौराहे पर हिंसा हो गई थी, जिसमें एक युवक फैज की मौत हो गई थी, जबकि दर्जन भर पुलिस कर्मी घायल हुए थे। एसओ भोट की कार भी जला दिया गया था। नामजद और अज्ञात करीब आठ सौ लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की गई थी। इनमें से कुछ को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। घटना की विवेचना क्राइम बांच के इंस्पेकटर अमर सिंह कर रहे थे। उनका तबादला एसपी ने बिलासपुर कोतवाली में इंस्पेक्टर क्राइम के पद पर कर दिया था। इसलिए अब घटना की विवेचना इंस्पेक्टर मनोज कुमार को सौंपी गई है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:SP changed the mindset of violence against CAA