DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

श्रीकृष्ण को ह्दय में बसा लो, दूर होगा संसार का कुंदन

वृंदावन से पधारे लीला रसिक जी महाराज ने कहा कि यशोदा नंदन को ह्दय मेंं बसाने से माया,मोह और संसार का कुंदन समाप्त जाता है। कथा का वर्णन सुन श्रद्धालु भक्ति भाव में खोकर नृत्य करने लगे।

श्रीकृष्ण चरित रसायन महाकाव्य प्रचार समिति की ओर से प्राचीन श्रीराधा कृष्ण मंदिर में शनिवार को श्रीकृष्ण चरित महाकाव्य की अमृत वर्षा प्रारंभ हुई। पहले गुरु पूजा हुई। इसके बाद भगवान श्रीकृष्ण की पूजा अर्चना हुई। गुरु की आरती उतारने के बाद वृंदावन से पधारे लीला रसिक जी महाराज ने कहा कि ब्रज की रज का चंदन लगा लो तो संसार के दंद्व से मुक्त हो जाओगे।

उन्होंने कहा कि संसार में दुखों के इतने प्रकार हैं कि जितनी किसी ओर चीज की नहीं। इन दुखों से बचने का एक ही उपाय है कि भगवान श्याम सुंदर की शरण में चले जाओ। रसिक जनों की बातों पर विश्वास कर भजन करो। श्रद्धालुओं के जयकारों से वातावरण गूंज उठा।

गिरीराज सरन अग्रवाल, विनोद अग्रवाल, दिनेश चंद्र अग्रवाल उर्फ चुन्ना भाई, कैलाश चंद्र, कृष्णौतार अग्रवाल, सचिन गुप्ता, शशि रस्तोगी, श्वेता गुप्ता, अमिता अग्रवाल आदि मौजूद रहे। इससे पहले रामपुर पहुंचे लीला रसिक जी महाराज का यहां पहुंचने पर भक्तों ने स्वागत किया। शोभायात्रा निकालकर उन्हें विश्राम स्थल तक ले जाया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:shri krishna leela