DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रेडिको खेतान का जल संरक्षण के क्षेत्र में सराहनीय योगदान

रेडिको खेतान का जल संरक्षण के क्षेत्र में सराहनीय योगदान

गिरते भू-गर्भ जल को बचाने के लिए जो कदम रेडिको खेतान ने उठाए, उनकी अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सराहना हुई है। बुधवार को रेडिको खेतान कैंपस में आस्ट्रेलिया से पहुंचे अंतर्राष्ट्रीय जल प्रबंधन संस्थान के वैज्ञानिकों ने रेडिको की पहल की सराहना की।

तकनीक विचार विमर्श कार्यक्रम में शामिल होने के लिए अंतर्राष्ट्रीय जल प्रबंधन संस्थान के भारत के प्रतिनिधि डॉ अलोक सिक्का, केन्द्रीय मृदा रिसर्च संस्थान से डॉ. सीएल वर्मा, संजीत राउत वैज्ञानिक हैदराबाद, कुमारी सराह वैज्ञानिक ऑस्ट्रेलिया एवं नवनीत शर्मा परियोजना अधिकारी लखनऊ की टीम बुधवार को रेडिको खेतान पहुंची और यहां रेडिको खेतान के डायरेक्टर केपी सिंह व उनकी तकनीकी टीम के साथ मीटिंग की।

इस दौरान केपी सिंह ने जानकारी दी कि रेडिको खेतान पिछले कई वर्षों से लगातार रामपुर के जल स्तर को सुधारने में कार्यरत है। बताया कि रेडिको खेतान ने 2016 से तालाबों में एकत्रित हुए अतिरिक्त जल को उसी जगह रिचार्ज करने के लिए अब तक 84 बोरिंग करवाए हैं। हमारे प्रयासों से अब भू-गर्भ जल स्तर चमरौआ ब्लाक, जो डार्क जोन में था, वहां बढ़ रहा है। उन्होंने पीपीटी के जरिए विस्तार से जानकारी दी, जिस पर टीम ने काफी सराहा। इस मौके पर रेडिको के उपाध्यक्ष सुनील सिंह, महाप्रबंधक विकास सक्सेना, उप महाप्रबंधक तकनीकी एचएस बाजवा आदि मौजूद रहे।

--------------

बड़े प्रोजेक्ट की जानकारी दी

अंतर्राष्ट्रीय जल प्रबंधन संस्थान के भारत प्रतिनिधि डॉ अलोक सिक्का ने उनके संस्थान द्वारा जिवाई जदीद में निर्मित जल संचयन प्रोजेक्ट के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि एक स्थान पर आठ वाटर रिचार्जिंग पिट बनाये गए हैं जो वर्षा ऋतु का अतिरिक्त जल उसी ज़मीन में संचयित कर देते हैं। जिससे भूगर्भ जल स्तर में सुधार आता है एवं बाढ़ की आशंकाएं भी कम हो जाती हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Radico khetan did work in water conservation