DA Image
9 अगस्त, 2020|1:23|IST

अगली स्टोरी

पूर्व विधायक और भाइयों के नाम दर्ज जमीन वापस ली

default image

सरकारी जमीनों को कब्जे से मुक्त कराने के लिए चलाए जा रहे अभियान के तहत प्रशासन ने पूर्व विधायक अफरोज अली खां और उनके भाइयों के नाम पर दर्ज जमीन को सरकारी खाते में दर्ज कर लिया है। आरोप है कि सरकारी जमीन को पहले पूर्व विधायक के पिता के नाम करा लिया गया था। उनकी मृत्यु के बाद करोड़ों रुपये कीमत की जमीन पूर्व विधायक और उनके भाइयों के नाम आ गई थी।

शासन ने सरकारी जमीनों पर अवैध कब्जा करने वालों के खिलाफ अभियान चलाने के आदेश दिए हुए हैं। शासन के आदेश पर सरकारी जमीनों पर कब्जा करने वालों के खिलाफ लगातार अभियान भी चला रहा है। इसके तहत अब प्रशासन ने पूर्व विधायक अफरोज अली पर शिकंजा कसा है। प्रशासन ने उनके और उनके भाइयों समेत छह लोगों के नाम पर दर्ज जमीन को सरकारी खाते में दर्ज कराया है। सरकारी खातों में दर्ज की गई यह जमीन पनवड़िया के पास रामपुर डिस्टलरी से सटी हुई है। तहसीलदार सदर प्रमोद कुमार ने बताया कि गाटा संख्या 410,442,443, 444 नंबर पहले पूर्व विधायक के पिता इरशत अली खां के नाम पर थी और फिर उनकी मृत्यु के बाद यह जमीन छह लोगों के खाते में आ गई।

इससे पहले यह जमीन माचिस फैक्ट्री और बंजर भूमि में दर्ज थी। इस मामले की पूरी जांच कराई गई। जांच में पाया गया कि यह जमीन सरकारी थी और हेराफेरी करते हुए इसे इन सभी भाइयों के नाम पर दर्ज की गई। बताया कि अब यह जमीन फिर से सरकारी खाते में दर्ज कर दी गई है। बताया कि सरकारी जमीनों को कब्जा मुक्त कराने का अभियान जारी रहेगा।

अफरोज बोले:रेलवे ने 40 साल पहले ले ली थी जमीन

रामपुर। पूर्व विधायक अफरोज अली खां ने जमीन की किसी भी प्रकार की हेराफेरी की बात से इंकार किया है। उनका कहना है कि उक्त जमीन पहले उनके पिता के नाम पर दर्ज थी, लेकिन करीब 40 साल पहले यह जमीन रेलवे ने ले ली थी। इसका मुआवजा भी उस वक्त दिया गया था। यह जमीन उनके पास सालों से नहीं है। ऐसे में किसी भी तरह जमीन को खुर्द-बुर्द करने का सवाल ही नहीं होता है। उन्होंने किसी भी तरह की कोई जमीन नहीं कब्जाई है, जिसने भी कोई शिकायत की है वह पूरी तरह झूठी है। कहा कि जो जमीन पहले से रेलवे के पास है उस जमीन से उनका कोई लेना-देना नहीं है। जमीन की खरीद फरोख्त में किसी भी तरह की कोई हेराफेरी नहीं हुई है जो आरोप लगाए गए हैं वह पूरी तरह झूठे हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Land registered in the name of former MLA and brothers withdrawn