DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › रामपुर › रामपुर में जगह-जगह चक्का जाम, बंद तो कहीं खुले रहे बाजार
रामपुर

रामपुर में जगह-जगह चक्का जाम, बंद तो कहीं खुले रहे बाजार

हिन्दुस्तान टीम,रामपुरPublished By: Newswrap
Mon, 27 Sep 2021 05:50 PM
रामपुर में जगह-जगह चक्का जाम, बंद तो कहीं खुले रहे बाजार

तीन कृषि कानूनों को रद्ध किए जाने की मांग को लेकर आहूत भारत बंद का जिले में मिलाजुला असर देखा गया। शहर और शाहबाद में रोजाना की तरह मार्केट खुली दिखी,जबकि बिलासपुर व स्वार क्षेत्र में बंद सफल रहा। मिलक में बंद पूरी तरह से बेअसर दिखाई दिया। हालांकि, जिले भर में किसानों ने जगह-जगह पर चक्का जाम कर केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया और तीन कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग की।

-----------------------------

आंबेडकर पार्क के सामने जाम लगाकर गरजे किसान

किसानों ने उठाई बिल को वापस को वापस करने की मांग

रामपुर। संवाददाता

तीन कृषि बिलों के खिलाफ राष्ट्रीय किसान संयुक्त मोर्चा के आह्वान पर किसानों ने हाईवे पर अंबेडकर पार्क के सामने प्रदर्शन कर धरना दिया। इस दौरान किसानों ने केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। बाद में ज्ञापन देकर किसानों ने इस बिल को वापस लेने की मांग रखी।

किसान पूर्वान्ह 11 बजे जुलूस की शक्ल में अंबेडकर पार्क पहुंचे,जहां किसानों ने दरी बिछा दी और फिर जाम लगा दिया। पुलिस और प्रशासन ने कई बार जाम खुलवाने की कोशिश की लेकिन जाम नहीं खुलवाया जा सका। जिला अध्यक्ष हसीब अहमद ने चेतावनी दी कि यदि उन्हें जबरन हटाया गया तो वह कोसी पुल के निकट पहुंच कर सभी मार्ग बंद कर देंगे। जिलाध्यक्ष ने कहा कि प्रधानमंत्री को पुणे आंदोलन के दौरान शहीद हुए किसानों का कोई दुख नहीं है| जबकि अमेरिका जाकर पूरी दुनिया की चिंता जताने का ढोंग रच रहे थे। कहा कि वह राम के वंशज हैं, इसलिए अहंकारी रावण को देश लूटने या बिकने नहीं दिया।चाहे इसके लिए किसानों को कितनी भी बड़ी कुर्बानी क्यों न देनी पड़े। जिलाध्यक्ष ने आरोप लगाया कि पुलिस ने कई स्थानों पर किसानों को आंदोलन में शामिल होने से रोका। पुलिस बंद को असफल करने में जुटी रही। किसानों ने प्रधानमंत्री को संबोधित ज्ञापन भेजा गया,जिसमें तीनों कृषि कानून वापस करने, एमएसपी पर कानून बनाने, गन्ने का मूल्य 450 रुपए प्रति कुंतल और दिल्ली की सरकार तर्ज पर 200 यूनिट बिजली फ्री देने मांग की। इस अवसर पर राहत खान, मनजीत सिंह अटवाल, जागीर सिंह चौधरी, अजीत सिंह, सुंदर सिंह, पिंटू सिंह, राजवीर सिंह, अमृतपाल भिंडर, लखविंदर सिंह लक्खा, मोहम्मद मुस्तकीम, होरीलाल, विरेंद्र सिंह, विनोद यादव, हाफिज अयूब, नईम, लखविंदर सिंह, दरियाव सिंह, रामदास मोर्य,अजीत सिंह, सुभाष शर्मा, साबिर अली,सलीम अहमद, मेहंदी हसन, अनीस अहमद, रमजानी हसन, सलामत, अमीर अहमद, मोहम्मद तालिब, नदीम खान, खेमकरण, लीलाधर, मधुबाला, राज बहादुर सिंह यादव, राम बहादुर, गुरचरण सिंह, यादव मौजूद रहे। संचालन साबिर मास्टर अध्यक्षा पूरन लाल चौहान ने की।

------------------------------------------

किसानों का आरोप पुलिस ने रोकी ट्रालियां

रामपुर। भाकियू जिलाध्यक्ष हसीब अहमद ने आरोप लगाया कि पुलिस व प्रशासनिक अमले ने कोसी, गांधी समाधि, शाहबाद रोड, हाईवे समेत अन्य स्थानों पर बैरीकेडिंग करते हुए धरने में शामिल होने आ रहे किसानों की ट्रैक्टर ट्रालियां रोक लीं। धरने के दौरान चेतावनी दी गई कि यदि किसानों की ट्रालियां नहीं छोड़ी गई तो किसान मौके पर पहुंचकर ही धरना प्रदर्शन करेंगे।

----------------------------------

धरना स्थल पर आपस में भिड़े किसान, हंगामा

रामपुर। अंबेडकर पार्क के सामने किसान धरने के दौरान आपस में उस वक्त भिड़ गए,जब धरने के दौरान अव्यवस्था फैली। जिलाध्यक्ष हसीब अहमद ने किसानों से अनुशासनहीनता न फैलाने को कहा,जिस पर एक सिख किसान नेता जिलाध्यक्ष से भिड़ गए। काफी देर तक तू-तू मैं-मै होती रही। जिलाध्यक्ष ने उनको यहां से चले जाने तक के लिए कहा। हालांकि बाद में कुछ किसान नेताओं ने बीच में पड़कर मामला शांत किया।

---------------------------------

हाईवे पर रूट किया डायवर्ट

रामपुर। किसान आंदोलन के दौरान हाईवे पर रूट डायवर्ट कर दिया गया। पुलिस ने बरेली-लखनऊ हाईवे के साथ ही बिलासपुर रूट पर भी रूट डायवर्ट कर दिया,जिसके चलते लोगों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। पुलिस ने इस मामले में दोनों रूटो पर रूट डायवर्ट कर दिया गया।

संबंधित खबरें