DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › रामपुर › बिजली अधिकारियों को बंधक बनाकर धरना स्थल पर बैठाया
रामपुर

बिजली अधिकारियों को बंधक बनाकर धरना स्थल पर बैठाया

हिन्दुस्तान टीम,रामपुरPublished By: Newswrap
Tue, 06 Jul 2021 10:30 PM
बिजली अधिकारियों को बंधक बनाकर धरना स्थल पर बैठाया

तहसील कि ग्रामीण क्षेत्रों में शेड्यूल के मुताबिक विद्युत आपूर्ति मुहैया करवाए जाने की मांग को लेकर क्षेत्रीय किसानों ने बिजलीघर पर नारेबाजी करते जिए जोरदार प्रदर्शन किया। इस दौरान किसानों ने अधिशासी अभियंता को धरना स्थल पर ही बंधक बना लिया और जल्द से जल्द इस समस्या का समाधान करवाए जाने की मांग की।

मंगलवार की सुबह दस बजे प्रधान संगठन के जिलाध्यक्ष हरजीत सिंह के नेतृत्व में बड़ी संख्या में क्षेत्रीय किसान शनिवार का बाजार में एकत्रित हुए और यहां से जुलुस की शक्ल में नारेबाजी करते हुए नगर के नैनीताल हाईवे स्थित बिजलीघर पहुंच गए। यहां किसानों ने दरियां बिछाई और धरने पर बैठ गए। साथ ही किसानों ने सरकार तथा विभाग के खिलाफ नारेबाजी करते हुए विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया। इसी बीच आक्रोशित किसानों को समझाने पहुंचे अधिशासी अभियंता विनोद कुमार और एसडीओ संजय कुमार को भी किसानों ने बंधक बना लिया और धरना स्थल पर ही बैठाकर अपनी समस्या का निस्तारण किए जाने की मांग करने लगे। उधर, बिजलीघर में किसानों के हंगामे की सूचना पाकर प्रभारी निरीक्षक प्रिंस शर्मा भी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गए और आक्रोशित किसानों को समझाने का प्रयास करने लगे। इस पर किसानों ने आरोप लगाया कि अनवरिया-शीशगढ़ फीडर से जुड़े दर्जनों गांवों को सोमवार की रात मात्र तीन से चार घंटे विद्युत आपूर्ति मुहैया करवाई गई। जबकि शेड्यूल के मुताबिक ग्रामीण क्षेत्रों को 18 घंटे आपूर्ति दिए जाने का आदेश पारित किया गया है। शेड्यूल के मुताबिक विद्युत आपूर्ति न मिलने के कारण धान की फसल नष्ट होने के कगार पर है। बार-बार अधिकारियों को समस्याओं से अवगत कराए जाने के बावजूद भी अधिकारी समस्या का समाधान करने के लिए तैयार नहीं हैं। जिसका खामियाजा किसानों तथा ग्रामीणों को भुगतना पड़ रहा है। आरोप लगाया कि सोमवार की रात अनवरिया-शीशगढ़ फीडर चालू था। इस दौरान गांव मुल्लाखेड़ा के ग्रामीणों ने जबरन फीडर को बंद करवा कर अपने यहां का फीडर चालू करवा लिया। इसके अलावा किसानों ने भोट क्षेत्र अलग करने, शेड्यूल के मुताबिक विद्युत आपूर्ति किए जाने तथा जर्जर तारों की शीघ्र मरम्मत कराने की मांग की। उधर, अधिशासी अभियंता ने आक्रोशित किसानों को समझाते हुए बहुत जल्द समस्या का निस्तारण किए जाने का आश्वासन दिया। साथ ही अन्य समस्याओं के निस्तारण के लिए दो दिन का समय मांगा। तब जाकर किसान शांत हुए और धरना समाप्त किया। इस मौके पर भाकियू के मंडल सचिव गुरचरन सिंह, किसान मजदूर संगठन के जिलाध्यक्ष डा. गुरुशरण जीत सिंह, प्रदीप सिंह विर्क, मंत्री मलवई, हरजीत सिंह, हरविंदर सिंह, पारजीत सिंह, हरप्रीत सिंह, हरजिंदर सिंह, गुरजीत सिंह, जमील अहमद, अनमोल रतन शर्मा, सुशील कुमार, महेंद्र सिंह, रुपिंदर सिंह, गुरविंदर सिंह, संदीप सिंह, जोगिंदर सिंह, सुखविंदर सिंह, कर्मपाल सिंह, रघुवीर सिंह सहित आदि किसान मौजूद रहे।

संबंधित खबरें