DA Image
25 फरवरी, 2021|9:49|IST

अगली स्टोरी

प्रेम प्रसंग और पैसों के विवाद में की थी गोविंद की हत्या

default image

ननिहाल में रह रहे युवक की हत्या लेनदेन के साथ ही हत्यारोपी की साली से प्रेम प्रसंग के चलते की गई थी। पुलिस के हत्थे चढ़े हत्यारोपी भाइयों से वारदात के पीछे के कारणों का खुलासा हुआ है। पुलिस ने उनकी निशानदेही से हत्या में प्रयुक्त रस्सी और मोटरसाइकिल भी बरामद कर ली है। पूछताछ के बाद उन्हें जेल भेज दिया गया।

बरेली जिले के सिरौली थाना क्षेत्र अंतर्गत गांव मेन्गोटिया निवासी गोविंद (19) के बचपन में ही उसके पिता तोताराम की मौत हो गई थी। मां की दूसरी शादी हो गई। इसके बाद से गोविंद और उसकी छोटी बहन चंद्रकली शाहबा थाना क्षेत्र के ग्राम लश्करगंज में अपने ननिहाल में रह रहे थे। रविवार की रात को गोविंद घर नहीं लौटा। सुबह में उसकी तलाश की गई तो गांव के सरकारी नलकूप की कुइया में उसका शव बरामद हुआ। गले पर रस्सी के निशान थे। सूचना पर पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया था। साथ ही मृतक के मामला सोमपाल की ओर से गांव के ही रामू और उसके भाई ऋषिपाल पर हत्या का मुकदमा दर्ज किया था। आरोप था कि मजदूरी के पैसे मांगने पर पेशे से राजमिस्त्री रामू ने भाई के साथ मिलकर हत्या कर दी। वारदात के बाद से ही आरोपी फरार चल रहे थे। गुरुवार को पुलिस ने क्षेत्र से फरार होने की कोशिश में जुटे रामू और उसके भाई ऋषि को नगर में बिलारी बस स्टैंड से गिरफ्तार कर लिया। एएसपी अरुण कुमार सिंह के मुताबिक पुलिस ने आरोपियों के पास से हत्या के बाद शव को नलकूप तक ले जाने में इस्तेमाल बाइक बरामद हुई। निशानदेही से पुलिस ने गला घोटकर हत्या करने में प्रयुक्त रस्सी भी बरामद कर ली।

----------

प्रेमिका तक गोविंद को को खींच ले गई मौत:

शाहबाद। हत्यारोपी ने पुलिस पूछताछ में बताया कि गोविंद के पंद्रह हजार उनके ऊपर आ रहे थे। वहीं, उसका रामू की साली से प्रेम प्रसंग चल रहा था। हत्या की रात को गोविंद रामू के घर पर आकर साली से बात कर रहा था। यह उन्हें इतना अपमानजनक लगा कि उन्होंने वहीं उसकी रस्सी से गला दबाकर हत्या कर दी। बाद में लाश नलकूप पर फेंक आए।

----------

गिरफ्तारी को एसपी ने गठित की थी टीम:

वारदात को अंजाम देने के बाद दोनों हत्यारोपी फरार हो गए थे। पुलिस उनकी तलाश में जुटी थी। लेकिन सुराग नहीं लग पा रहा था। जिस पर एसपी शगुन गौतम ने गिरफ्तारी के लिए एएसपी अरुण कुमार सिंह व सीओ मिलक धर्म सिंह मार्छाल के निर्देशन में टीम बनाई थी। टीम में कोतवाल नरेंद्र त्यागी, एसआई इंदेश कुमार, सिपाही नरेंद्र, विनोद गिर और चालक अमित कुमार शामिल रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Govind was murdered in a love affair and money dispute