ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश रायबरेलीस्कूल में बच्चों को शुद्ध पेयजल व्यवस्था नहीं

स्कूल में बच्चों को शुद्ध पेयजल व्यवस्था नहीं

नागेश्वर द्विवेदी जगतपुर,संवाददाता। ब्लॉक क्षेत्र के करीब चालीस प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालयों...

स्कूल में बच्चों को शुद्ध पेयजल व्यवस्था नहीं
हिन्दुस्तान टीम,रायबरेलीTue, 14 May 2024 11:35 PM
ऐप पर पढ़ें

नागेश्वर द्विवेदी

जगतपुर,संवाददाता। ब्लॉक क्षेत्र के करीब चालीस प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालयों के बच्चों को शुद्धपेय जल के लिए लाखों रुपए की लागत से सेमरसेबल पंप और टंकी के साथ टोटियां लगाई गई थी। कुछ दिन तक स्कूल आने वाले बच्चों को शुद्ध पेयजल की सुविधा मिली, लेकिन धीरे-धीरे यह लगभग सभी स्कूलों में ध्वस्त हो गईं। अधिकांश स्कूलों में लगी टोटियां और पानी की टंकी के साथ सेमरसबेल की मोटर गायब हो गई। शिकायत के बाद भी इस पर किसी भी जिम्मेदार अधिकारी द्वारा ध्यान तक नहीं दिया गया।

करीब छह साल पहले नमामि गंगे योजना के तहत ब्लॉक क्षेत्र के करीब एक सैकड़ा प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्कूलों में से चालीस स्कूलों में शुद्धपेय जल की व्यवस्था कराई गई थी। इसमें स्कूल में लगाए गए सेमरसेबल और रखी गई पानी की टंकियों से बच्चों को पीने के लिए जल की व्यवस्था चली, लेकिन रख रखाव और अधिकारियों के लापरवाही पूर्ण रवैए के चलते यह व्यवस्था कुछ समय बाद बंद हो गई। पहले पानी की टंकी गायब हुई और धीरे-धीरे टोटियां गायब हो गई। यहीं नहीं शिक्षा विभाग के जिम्मेदार समय-समय पर अधिकारी स्कूलों का निरीक्षण भी करते है, लेकिन उन्हें बच्चों के लिए की गई यह व्यवस्था कभी नजर नहीं आई।

शिक्षा विभाग के अधिकारी भी निरीक्षण के नाम पर खानापूर्ति करके चले जाते है। इससे स्कूल आने वाले बच्चों को मजबूरन हैडपंप का दूषित पानी पीना पड़ता है। खंड शिक्षाधिकारी अरविंद सिंह ने बताया कि उन्हें इस मामले की कोई जानकारी नहीं है। जानकारी करने के बाद गायब हुई पानी की टंकी और टोटियों के बारे में जानकारी की जाएगी और विभाग के अधिकारियों को इसकी रिपोर्ट भेजकर व्यवस्थाओं को फिर से दुरूस्त करने का प्रयास किया जाएगा।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
अगला लेख पढ़ें