DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  रायबरेली  ›  कोविड के खिलाफ लड़ाई में टीका ही है सबसे कारगर अस्त्र: सीएमओ

रायबरेलीकोविड के खिलाफ लड़ाई में टीका ही है सबसे कारगर अस्त्र: सीएमओ

हिन्दुस्तान टीम,रायबरेलीPublished By: Newswrap
Mon, 24 May 2021 10:20 PM
कोविड के खिलाफ लड़ाई में टीका ही है सबसे कारगर अस्त्र: सीएमओ

रायबरेली। कोविड के विरूद्घ लड़ाई में टीका ही सबसे कारगर अस्त्र है, इसे जरूर लगवाएं और अफवाहों पर बिल्कुल ध्यान न दें। यह बातें मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा़ वीरेन्द्र सिंह ने कहीं। उन्होंने कहा कि कोरोना से हम तभी पार पाएंगे जब सभी लोग टीकाकरण करवा लेंगे। टीका लगने के बाद हल्का बुखार, सुई लगने की जगह पर दर्द या बदन दर्द की शिकायत हो सकती है जो कि किसी भी टीके को लगवाने के बाद हो सकती है। उन्होंने कहा कि इससे घबराने की जरूरत नहीं है। अभी तक जिले में करीब एक लाख ़56 हजार लोगों को टीका लगाया जा चुका है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने कहा कि दोनों ही टीके (कोविशील्ड और कोवैक्सीन) पूरी तरह से सुरक्षित हैं। इनको लगवाने को लेकर कोई संशय न पालें और टीका जरूर लगवाएं। जिन लोगों ने टीके की दूसरी डोज नहीं लगवाई है, वह जरूर दूसरी डोज लगवा लें , क्योंकि केवल टीके की पहली डोज लगवाने से वह फायदेमंद नहीं रहेगी। कोवैक्सीन की दूसरी डोज चार हप्ते के अंतर पर और कोविशील्ड की दूसरी डोज 12 से 16 हफ्ते के अंतर पर लगवानी है। जिला स्वास्थ्य शिक्षा एवं सूचना अधिकारी डीएस अस्थाना ने बताया कि 45 से 60 साल तक की आयु के 48,158 लोगों ने टीके की पहली डोज तथा 5157 ने दूसरी डोज लगवाई है। 60 साल से ऊपर के 57,240 ने टीके की पहली डोज और 9,439 ने दूसरी डोज लगवाई है। उन्होंने बताया कि हमारे पास टीके की पहली और दूसरी डोज पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हैं।

संबंधित खबरें