DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  प्रयागराज  ›  कचहरी में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से होगी सुनवाई

प्रयागराजकचहरी में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से होगी सुनवाई

हिन्दुस्तान टीम,प्रयागराजPublished By: Newswrap
Thu, 22 Apr 2021 11:12 PM
कचहरी में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से होगी सुनवाई

प्रयागराज विधि संवाददाता

कोविड-19 के बढ़ते प्रभाव के दृष्टिगत जिला न्यायालय में कोर्ट का संचालन वीडियो कांफ्रेंसिग के माघ्यम से होगा। उच्च न्यायालय के निर्देशों के अनुपालन में जिला जज अमरजीत त्रिपाठी ने अधीनस्थ न्यायालयों को निर्देश जारी किया कि विभिन्न कोर्ट का संचालन वीडियो कांफ्रेंसिग/ फिजिकल मोड के माध्यम से होगा।

इन अदालतों में होगा काम

जिला एवं सत्र न्यायाधीश, विशेष न्यायाधीश (अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति), विशेष न्यायाधीश (आवश्यक वस्तु अधिनियम), विशेष जज (मादक पदार्थ एवं मनोत्तेजक औषधि अधिनियम), विशेष जज (पोक्सो एक्ट), विशेष न्यायाधीश (एमपी-एमएलए), विशेष न्यायाधीश (गैंगस्टर एक्ट)

अधीनस्थ अदालत जिनमें होगा काम

मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट, सिविल जज (वरिष्ठ श्रेणी), सिविल जज (कनिष्ठ श्रेणी) शर्की, सिविल जज (कनिष्ठ श्रेणी) गर्वी का संचालन वीडियो कांफ्रेंसिग/ फिजिकल मोड के माध्यम से होगा।

50 प्रतिशत कर्मचारियों की ही होगी उपस्थिति

न्यायालयों के संचालन के लिए 50 प्रतिशत कर्मचारियों की उपस्थिति परिसर में रहेगी।

अधिकारियों को निर्देश

अधिकारियों को निर्देंश दिया गया है कि लंबित नवीन प्रार्थना पत्र, लंबित नवीन अग्रिम जमानत प्रार्थना पत्र, अति आवश्यक प्रकीर्ण फौजदारी प्रार्थना पत्रों का निस्तारण अस्थाई निषेधाज्ञा जैसे अति आवश्यक दीवानी प्रार्थना पत्रों का निस्तारण, विचाराधीन बंदियों से संबंधित न्यायिक रिमांड तथा ऐसे वाद जिसके निस्तारण के लिए उच्च न्यायालय ने समय अवधि निर्धारित की है, उसी मामलों की ही सुनवाई होगी।

वकीलों को निर्देश

न्यायालय की ओर से अधिकृत ईमेल आईडी तैयार की गई है जिसका प्रयोग अधिवक्ता उपर्युक्त कार्यों के लिए कर सकेंगे। प्रार्थना पत्रों में अधिवक्ता एवं वादकारी का पूर्ण विवरण, मोबाइल नंबर समेत देना होगा, न्यायालय में ऐसे अधिवक्ता एवं वादकारी प्रवेश कर सकेंगे जिनके मामले सुनवाई के लिए सूचीबद्ध हों, सुनवाई के उपरांत उन्हें न्यायालय परिसर से बाहर निकलना होगा, सुनिश्चित संचालित न्यायालय में अधिवक्तागणों के लिए महज चार कुर्सी निर्धारित दूरी पर लगाई जाएगी तथा न्यायालय कक्ष में प्रवेश करने वाले प्रत्येक न्यायिक अधिकारी/अधिवक्तागण/न्यायालय के कर्मचारीगण द्वारा मास्क और सेनिटाइजर का प्रयोग किया जाएगा तथा सुनवाई हेतु सामाजिक एवं भौतिक दूरी के दिशा-निर्देशों का पालन किया जाएगा। यह जानकारी श्रीमती प्रज्ञा सिंह-द्वितीय, सचिव, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, इलाहाबाद द्वारा दी गई।

संबंधित खबरें