DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › प्रयागराज › यूपी बोर्ड : पांच साल बाद पुरुष सचिव ने दिया परिणाम
प्रयागराज

यूपी बोर्ड : पांच साल बाद पुरुष सचिव ने दिया परिणाम

हिन्दुस्तान टीम,प्रयागराजPublished By: Newswrap
Sun, 01 Aug 2021 03:52 AM
यूपी बोर्ड : पांच साल बाद पुरुष सचिव ने दिया परिणाम

यूपी बोर्ड के हाईस्कूल और इंटर का परिणाम पांच साल बाद किसी महिला सचिव ने जारी नहीं किया। 2021 के अंकपत्र सह प्रमाणपत्र सचिव दिव्यकांत शुक्ल के हस्ताक्षर से जारी हुए हैं।

इससे पहले 2016 से 2020 तक का परिणाम महिलाओं के हस्ताक्षर से जारी हुआ। नीना श्रीवास्तव 24 जून 2017 से 30 जून 2020 तक सचिव रहीं और उनके हस्ताक्षर से 2018, 2019 और 2020 का रिजल्ट घोषित हुआ था। इससे पहले 11 अगस्त 2015 से 24 जून 2017 तक शैल यादव सचिव रहीं। उनके हस्ताक्षर से 2016 और 2017 परीक्षा का परिणाम जारी हुआ था।

ढाई दशक तक महिलाओं का रहा दबदबा

खास बात यह है कि एशिया के सबसे बड़े बोर्ड की कमान ढाई दशक में अधिकांश समय महिला अफसरों के हाथ में रही। यूपी बोर्ड की 1998 से सन 2020 तक की कुल 23 परीक्षाओं में से 16 महिला अफसरों ने कराई थी। 10 जुलाई 1997 को अचला खन्ना ने पहली बार सचिव की कमान संभाली और सफल महिला अफसर साबित हुईं। उन्होंने 2003 तक लगातार छह साल बोर्ड परीक्षा कराई। इसके बाद प्रभा त्रिपाठी 17 जुलाई 2007 से 23 फरवरी 2012 तक सचिव रहीं। शकुंतला देवी यादव 31 जुलाई 2013 से 11 नवंबर 2014 तक सचिव रहीं और उन्होंने 2014 की परीक्षा कराई।

संबंधित खबरें