DA Image
Monday, November 29, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश प्रयागराजदिवाली पर बर्तन बाजार में लौटी पुरानी खनक

दिवाली पर बर्तन बाजार में लौटी पुरानी खनक

हिन्दुस्तान टीम,प्रयागराजNewswrap
Mon, 01 Nov 2021 03:23 AM
धनतेरस, दिवाली करीब है, ऐसे में बर्तन बाजार में खनक बढ़ गई है। ठठेरी बाजार, चौक, कटरा, सिविल लाइंस समेत अन्य जगहों पर बर्तन की दुकानों में भीड़...
1/ 2धनतेरस, दिवाली करीब है, ऐसे में बर्तन बाजार में खनक बढ़ गई है। ठठेरी बाजार, चौक, कटरा, सिविल लाइंस समेत अन्य जगहों पर बर्तन की दुकानों में भीड़...
धनतेरस, दिवाली करीब है, ऐसे में बर्तन बाजार में खनक बढ़ गई है। ठठेरी बाजार, चौक, कटरा, सिविल लाइंस समेत अन्य जगहों पर बर्तन की दुकानों में भीड़...
2/ 2धनतेरस, दिवाली करीब है, ऐसे में बर्तन बाजार में खनक बढ़ गई है। ठठेरी बाजार, चौक, कटरा, सिविल लाइंस समेत अन्य जगहों पर बर्तन की दुकानों में भीड़...

धनतेरस, दिवाली करीब है, ऐसे में बर्तन बाजार में खनक बढ़ गई है। ठठेरी बाजार, चौक, कटरा, सिविल लाइंस समेत अन्य जगहों पर बर्तन की दुकानों में भीड़ उमड़ने लगी है। त्योहार के साथ लगन का सीजन इस कारोबार की खनक बढ़ा रहा है। बर्तन कारोबारी कहते हैं तीन साल बाद बर्तन की खरीद में इतनी तेजी आई है। स्टील, तांबा, पीतल और नॉन स्टिक बर्तनों की खरीद खूब हो रही है। एल्युमीनियम निर्मित बर्तन कम पसंद किए जा रहे हैं। इस बार गोल्ड प्लेट डिनर सेट, मल्टीपल कड़ाही, इंपोर्टेड डिनर सेट और नॉन स्टीक बर्तन महिलाओं की पहली पसंद हैं। नगों से सजाए गए कलश बर्तन दुकानों की शोभा बढ़ा रहे हैं।

बर्तन कारोबारियों का कहना है कि इस बार दिवाली पर बर्तनों पर छूट नहीं है। बड़े बर्तनों की खरीद पर छोटे बर्तन फ्री का चलन भी नहीं है, इसके बावजूद खरीदारों की भीड़ पिछले तीन सालों में दोगुनी है। कोरोना ने बर्तन व्यापार पर भी असर डाला था। अब वह कसर पूरी हो जा रही है। 25 सौ कीमत वाले पीतल, स्टील के कुकर, नॉन स्टीक कुकर और मल्टीपल कंटेनरों की डिमांड बहुत ज्यादा है। छठ को लेकर पीतल के कलश, सूप, थाली, सुराही आदि की भी मांग है। इसके अलावा चांदी व पीतल की बनी गणेश-लक्ष्मी की मूर्तियों की भी डिमांड है। तांबे का पेंट चढ़ा एल्युमीनियम निर्मित गणेश-लक्ष्मी की भी छोटी-छोटी प्रतिमाएं लोग पसंद कर रहे हैं। पूजा पाठ में इस्तेमाल होने वाली डलिया, कटोरी, दीया, गणेश-लक्ष्मी का सिंहासन आदि की बिक्री खूब हो रही है। बाजार में स्टील, तांबा, पीतल के बर्तनों का स्टॉक भारी मात्रा में है। उपहार में देने वाले बर्तन कम कीमत पर उपलब्ध हैं। तांबा के गिलास, जग व पानी की बोतल खूब बिक रही है।

महंगाई का असर, कीमतें बढ़ीं

बर्तन बाजार पर भी महंगाई का खास असर पड़ा है। स्टील के बर्तन पिछले साल वजन में 150 रुपये प्रतिकिलो थे जो अब दो सौ रुपये के करीब हैं। पीतल 450 से छह सौ रुपये, जबकि तांबा छह सौ से आठ सौ रुपये पहुंच गया है। कारोबारियों का कहना है कि हर प्रकार के बर्तन पर सौ से दो सौ रुपये का फर्क आया है। कंपनियों के कुकर, कढ़ाई, मिक्सर, जूसर आदि भी दो से तीन सौ रुपये महंगे हुए हैं।

कारोबारी बोले

बर्तन की खरीद बहुत ज्यादा हो रही है। पिछले तीन सालों की कसर पूरी हो जाएगी। महंगा होने पर भी महिलाएं खूब बर्तन खरीद रही हैं।

- अनुराग गुप्ता, कारोबारी

बर्तन बाजार में रौनक ज्यादा है। कारोबार बढ़ा है। कुकर, गैस चूल्हे और स्टील के बर्तनों की बिक्री खूब हो रही है।

- संदीप कुमार, बर्तन दुकानदार

दिवाली पर कई करोड़ का कारोबार

बर्तन कारोबारी बताते हैं कि पूरे साल बर्तनों की खरीद दिवाली, धनतेरस की खरीद पर भारी पड़ती है। इसी में सहालग की खरीद कई साल का कोटा पूरा कर देती है। जानकारों का कहना है कि कारोबार पूरे साल सौ करोड़ से अधिक का होता है। दिवाली पर कई करोड़ की बिक्री एक रात में होती है।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें