ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश प्रयागराजभक्ति और राष्ट्रप्रेम की रचनाओं ने बांधा समां

भक्ति और राष्ट्रप्रेम की रचनाओं ने बांधा समां

संस्कार भारती एवं उत्तर मध्य क्षेत्र सांस्कृतिक केन्द्र (एनसीजेडसीसी) की ओर से माघ मेला में आयोजित 11 दिवसीय सांस्कृतिक उत्सव अवलोकन तीरथराजु चलो रे...

भक्ति और राष्ट्रप्रेम की रचनाओं ने बांधा समां
हिन्दुस्तान टीम,प्रयागराजThu, 22 Feb 2024 01:00 AM
ऐप पर पढ़ें

प्रयागराज, वरिष्ठ संवाददाता।
संस्कार भारती एवं उत्तर मध्य क्षेत्र सांस्कृतिक केन्द्र (एनसीजेडसीसी) की ओर से माघ मेला में आयोजित 11 दिवसीय सांस्कृतिक उत्सव अवलोकन तीरथराजु चलो रे रामोत्सव में बुधवार को राष्ट्रीय कवि सम्मेलन हुआ। अध्यक्षता वरिष्ठ कवयित्री जयश्री श्रीवास्तव ने की। मुख्य अतिथि न्यायमूर्ति प्रशान्त शुक्ल और एनसीजेडसीसी के निदेशक सुरेश शर्मा रहे। कार्यक्रम का शुभारंभ प्रीता बाजपेई ने सरस्वती वंदना से की। सबकुछ था मेरे पास लेकिन राम नहीं था सुनाकर रामलोचन सांवरिया ने जमकर तालियां बटोरीं। वरिष्ठ कवि एवं संस्कार भारती के अध्यक्ष योगेन्द्र कुमार मिश्र ने यूं तो यह सपना है लेकिन शायद सच हो जाये, हो राग-द्वेष से मुक्त देश ये स्वर्ग-तुल्य हो जाये... पढकर लोगों को देशभक्ति और रामभक्ति का संदेश दिया। चंदौली के सुरेश अकेला, गुड़गांव से सुदीप शुक्ल, प्रयागराज के धनंजय शाश्वत, संतोष शुक्ल, समर्थ, कमलेश पांडेय, कमल, डॉ नीलिमा मिश्रा, डॉ राजेन्द्र त्रिपाठी आदि ने काव्यपाठ किया। कार्यक्रम का संचालन डॉ पीयूष मिश्र ने किया। डॉ वीरेन्द्र तिवारी, निरंकार त्रिपाठी, धनेन्द्र त्रिपाठी, आदित्य तिवारी, एचसी शर्मा, सत्येन्द्र शर्मा, सुभाष शर्मा आदि मौजूद रहे। इस अवसर पर वरिष्ठ कवि जनकवि प्रकाश के 52वें काव्य-संग्रह गंगा-अवतरण का विमोचन भी हुआ।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें