DA Image
21 अक्तूबर, 2020|9:55|IST

अगली स्टोरी

सीबीआई कोर्ट के फैसले से संत समाज खुश

सीबीआई कोर्ट के फैसले से संत समाज खुश

अयोध्या के विवादित ढांचा विंध्वस के मामले में सीबीआई की विशेष अदालत के फैसले से प्रयागराज का संत समाज गदगद है। श्रीराम जन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के सदस्य स्वामी वासुदेवानंद सरस्वती ने विशेष अदालत के फैसले का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि संपूर्ण राष्ट्र को न्यायालय के सार्वभौम सत्य फैसले का स्वागत करना चाहिए। वासुदेवानंद ने कहा कि अदालत का फैसला भारतीय संस्कृति और समाज के प्रति भारतीय संविधान की मंशा के अनुकूल है। यह फैसला बहुत पहले ही आ जाना चाहिए था। खैर राम का काम है और राम की इच्छा के अनुसार ही हो सकता है।

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि और महामंत्री महंत हरि गिरि ने फैसले का स्वागत किया। दोनों संतों ने कहा कि विशेष अदालत के निर्णय से साफ है कि छह दिसंबर 1992 को अयोध्या में जो घटना हुई वह पूर्व नियोजित नहीं थी। देश की न्याय व्यवस्था पर सभी को विश्वास है। अदालतें न्याय का मंदिर हैं। संतों ने सभी से इस निर्णय को मानने की अपील की है। महंत नरेंद्र गिरि ने जहां देशवासियों से कोरोना काल में घर में बैठकर राम नाम जपने की अपील की है वहीं महंत हरि गिरि ने ऐलान किया है कि जूना अखाड़े की सभी शाखाओं में विशेष पूजा पाठ का आयोजन होगा। संतों ने मामले के सभी आरोपितों को बधाई दी है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Sant community happy with CBI court 39 s decision