DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  प्रयागराज  ›  दुखद: बेटे की चिता बुझ़ी नहीं, मां की मौत की आ गई खबर

प्रयागराजदुखद: बेटे की चिता बुझ़ी नहीं, मां की मौत की आ गई खबर

हिन्दुस्तान टीम,प्रयागराजPublished By: Newswrap
Fri, 23 Apr 2021 03:30 AM
दुखद: बेटे की चिता बुझ़ी नहीं, मां की मौत की आ गई खबर

प्रयागराज वरिष्ठ संवाददाता

कोरोना काल में तो जैसे दु:खों का पहाड़ टूट पड़ा है। कोरोना से मृत जवान बेटे की चिता की आग बुझी भी नहीं थी कि मां का निधन हो गया। एक बजे बेटे की चिता को मुखाग्नि दी गई और 3.30 बजे मां का अंतिम संस्कार करना पड़ा।

सावित्री नगर झूंसी के लोकनाथ श्रीवास्तव (38 वर्ष) की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर उन्हें एसआरएन अस्पताल में एडमिट कराया गया। लेकिन डॉक्टर उन्हें बचा नहीं सके और 19 अप्रैल को निधन हो गया। परिजन शव लेकर फाफामऊ घाट पहुंचे और दोपहर एक बजे मुखाग्नि दी गई। चिता पूरी तरह जली भी नहीं थी कि घर से फोन आ गया कि लोकनाथ की मां दुर्गा देवी (62) भी नहीं रहीं। दुर्गा देवी कुछ दिनों से बीमार थीं और घर पर ही इलाज चल रहा था। उनकी मौत की जानकारी होने पर लोकनाथ के दो अन्य भाई शिवपूजन श्रीवास्तव और दीपक श्रीवास्तव फाफामऊ से भागे-भागे झूंसी पहुंचे और मां के शव को 3.30 बजे दारागंज घाट पर मुखाग्नि दी।

दुर्गा देवी की पुत्री चेतना श्रीवास्तव, दामाद विमल श्रीवास्तव, नाती और बाक़ी सभी रिश्तेदार चाह कर भी अंतिम यात्रा में नहीं जा सके। बकौल विमल श्रीवास्तव-‘चेतना अपनी मां और भाई की अंत्येष्टि को फोन पर देख कर बेहाल हो रही थी, पर ये ऐसा भयावह मंजर था कि मैं बेबस था। अपनी पत्नी को उसकी मां और भाई के पास नहीं ले जा सका। इस घटना से चेतना इतनी बदहवास हो गई है कि मोबाइल की रिंगटोन या घर की घंटी बजने पर डर उठती है। चेतना और लोकनाथ के पिता मोहन लाल श्रीवास्तव का पहले ही निधन हो चुका है।

अपील

प्रयागराज के सभी सम्मानित नागरिकों से करबद्ध प्रार्थना करता हूं कि आप सब कोरोना वायरस को हल्के में न लें। घर में रहकर अपने आराध्य का स्मरण करते हुए परिवार, अपने आप को और समाज को सुरक्षित रखें। साबुन, सेनिटाइजर, मास्क का प्रयोग करें। सबसे ज़रूरी बात बाहर अगर आवश्यक खाद्य सामग्री, दवा या किसी अन्य कार्य से अगर जाते भी हैं तो सामाजिक दूरी बनाकर लाइन में लगकर धैर्यपूर्वक ही लें। यही मृतकों के प्रति हमारी सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

विमल श्रीवास्तव, निवासी तेलियरगंज

संबंधित खबरें