DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  प्रयागराज  ›  कोरोना से जीतकर लौटे रेलवे अफसर, बढ़ा रहे हौसला

प्रयागराजकोरोना से जीतकर लौटे रेलवे अफसर, बढ़ा रहे हौसला

हिन्दुस्तान टीम,प्रयागराजPublished By: Newswrap
Mon, 17 May 2021 02:00 PM
कोरोना से जीतकर लौटे रेलवे अफसर, बढ़ा रहे हौसला

प्रयागराज। वरिष्ठ संवाददाता

कोरोना महामारी की जद में रेल महकमे के अफसर और कर्मचारी भी बड़े पैमाने पर आए। उत्तर मध्य रेलवे के करीब पंद्र सौ अधिकारी और कर्मचारी कोरोना से पीडि़त हुए। ऐसे अफसरों और कर्मचारियों ने हिम्मत न हारते हुए महत्वपूर्ण रेल मार्गों पर रेल परिचालन को सुचारु और निर्बाध बनाए रखा। उन्‍होंने न सिर्फ कोरोना को मात दी, बल्कि अपने कार्यस्थलों, चाहे वो ट्रेन संचालन हो, अस्पताल या कार्यालय हो, हर मोर्चे पर बिना रुके काम जारी रखा। हौसले से जंग जीतने वाले ऐसे अफसर और कर्मचारी अब दूसरे पीड़ितों का हौसला बढ़ा रहे हैं।

मार्च से मई माह के बीच उत्तर मध्य रेलवे में बड़ी संख्या में अधिकारी और कर्मचारी महामारी से संक्रमित हुए। इसमें प्रमुख मुख्य संकेत एवं दूरसंचार इंजीनियर अरुण कुमार, प्रमुख मुख्य इंजीनियर एसके मिश्रा, मुख्य माल यातायात प्रबंधक पीके ओझा, मुख्य यातायात योजना प्रबंधक उप महाप्रबंधक-सामान्य मन्नू दूबे, मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी शिवम शर्मा, अपर मंडल रेल प्रबंधक प्रयागराज मंडल अतुल गुप्ता एवं अजीत कुमार सिंह सहित कई वरिष्ठ अधिकारी लड़ाई जीत कर वापस आ चुके हैं। कई तो पूर्णत: स्वस्थ होकर कार्यालय पहुंचने लगे हैं। महाप्रबंधक विनय कुमार त्रिपाठी के अनुसार प्रत्येक रेलकर्मी और उनके परिवार का स्वास्थ्य प्राथमिकता है। इसके लिए हम हर संभव सहायता उपलब्ध कराते रहेंगे। उन्होंने रेल कर्मियों को भी निर्देशित किया है कि वो अपने दायित्व निर्वहन के साथ सभी निर्धारित कोविड प्रोटोकॉल का पालन अवश्य सुनिश्चित करें।

वरिष्ठ जनसंपर्क अधिकारी अमित कुमार मालवील के मुताबिक, उत्तर मध्य रेलवे के करीब 28 सौ से अधिक कर्मचारी भी संक्रमण का शिकार हुए, इसमें से लगभग 15 सौ ठीक होकर कार्यालय पहुंच रहे हैं। अभी भी लगभग 13 सौ रेलकर्मी संक्रमण से संघर्षरत हैं। उनमें से कुछ होम आइसोलेट हैं तो कुछ केंद्रीय रेल अस्‍पताल, प्रयागराज या मंडल रेल चिकित्सालय झांसी के कोविड सेंटरों में इलाज करा रहे हैं। महाप्रबंधक विनय कुमार त्रिपाठी और प्रमुख मुख्‍य चिकित्‍सा निदेशक डॉ. आनंद टंडन के निर्देश पर प्रत्‍येक विभाग के रेलकर्मियों का चिकित्‍सकों और संबंधित अधिकारी द्वारा हालचाल लिया जा रहा है।

संबंधित खबरें