ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश प्रयागराजचार स्टेशनों के नाम से इलाहाबाद हटाकर जुड़ा प्रयागराज

चार स्टेशनों के नाम से इलाहाबाद हटाकर जुड़ा प्रयागराज

इलाहाबाद जंक्शन समेत संगमनगरी के चार स्टेशनों के नाम के साथ प्रयागराज जुड़ गया है। इलाहाबाद जंक्शन अब प्रयागराज जंक्शन, इलाहाबाद सिटी प्रयागराज रामबाग, इलाहाबाद छिवकी प्रयागराज छिवकी और प्रयागघाट...

चार स्टेशनों के नाम से इलाहाबाद हटाकर जुड़ा प्रयागराज
चार स्टेशनों के नाम से इलाहाबाद हटाकर जुड़ा प्रयागराज
हिन्दुस्तान टीम,प्रयागराजFri, 21 Feb 2020 01:10 PM
ऐप पर पढ़ें

इलाहाबाद जंक्शन समेत संगमनगरी के चार स्टेशनों के नाम के साथ प्रयागराज जुड़ गया है। इलाहाबाद जंक्शन अब प्रयागराज जंक्शन, इलाहाबाद सिटी प्रयागराज रामबाग, इलाहाबाद छिवकी प्रयागराज छिवकी और प्रयागघाट स्टेशन प्रयागराज संगम के नाम से जाने जाएंगे।

केंद्र सरकार से अनापत्ति के बाद उत्तर प्रदेश शासन ने गुरुवार रात चार स्टेशनों के नाम बदलने की अधिसूचना जारी कर दी। इलाहाबाद जिला और मंडल का नाम बदलने के बाद रेलवे ने स्टेशनों का नाम बदलने के लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय से आग्रह किया था। गृह मंत्रालय से गत दिवस स्वीकृति मिलने के बाद प्रमुख सचिव (लोक निर्माण अनुभाग-11) नितिन रमेश गोकर्ण ने अधिसूचना जारी की।

स्टेशनों के नाम बदलने के बाद अब रेलवे प्रशासन टिकटों पर नए नाम छापने की प्रक्रिया शुरू करेगा। टिकटों पर नाम बदलने के लिए रेलवे मंत्रालय एक या दो दिन में अधिसूचना जारी कर सकता है। केंद्रीय रेलमंत्री पीयूष गोयल रविवार को एक समारोह में भाग लेने प्रयागराज आ रहे हैं। रेलवे के अधिकारियों का कहना है रेलमंत्री के आगमन से पहले मंत्रालय टिकट व अन्य कागजातों में नाम बदलने का आदेश जारी कर सकता है।

इलाहाबाद मंडल का बदलेगा नाम

प्रयागराज। इलाहाबाद जंक्शन, इलाहाबाद सिटी, इलाहाबाद छिवकी और प्रयागघाट का नाम बदलने के बाद अब उत्तर मध्य रेलवे के इलाहाबाद मंडल का भी नाम बदलेगा। उत्तर मध्य रेलवे ने इलाहाबाद जंक्शन, इलाहाबाद छिवकी के साथ इलाहाबाद मंडल का नाम बदलने के लिए रेलवे मंत्रालय को लिखा था। सूत्रों के अनुसार इलाहाबाद मंडल का नाम प्रयागराज मंडल हो जाएगा।

14 महीने बाद जुड़ा प्रयागराज

प्रयागराज। इलाहाबाद जिला और इलाहाबाद मंडल का नाम बदलने के बाद इलाहाबाद नाम के सभी स्टेशन के प्रयागराज जोड़ने की सिफारिश 14 महीने पहले की गई थी। प्रदेश सरकार ने 13 अक्तूबर 2018 को इलाहाबाद जिला और मंडल का नाम बदलने की घोषणा की। 18 अक्तूबर को नाम बदलने की अधिसूचना जारी हो गई। इलाहाबाद की जगह जिला और मंडल के साथ प्रयागराज जुड़ते ही संगमनगरी में स्टेशनों के नाम बदलने की मांग उठी। स्टेशनों के नाम बदलने के लिए रेलवे मंत्रालय को नवंबर 2018 में पत्र भेजा था।

तीन जोन से हुई थी सिफारिश

प्रयागराज। संगमनगरी के रेलवे स्टेशनों के नाम के साथ इलाहाबाद की जगह प्रयागराज जोड़ने की सिफारिश तीन जोन ने अलग-अलग की थी। उत्तर मध्य रेलवे ने इलाहाबाद जंक्शन, इलाहाबाद मंडल और इलाहाबाद छिवकी का नाम बदलने की मांग की थी। उत्तर रेलवे ने प्रयागघात और पूर्वोत्तर रेलवे ने इलाहाबाद सिटी का नाम बदलने के लिए पत्र भेजा था।

सैकड़ों करोड़ रुपये खर्च होंगे

प्रयागराज। संगमनगरी के चार स्टेशनों का नाम बदलने की प्रक्रिया पर सैकड़ों करोड़ रुपये खर्च हो सकते हैं। इससे पहले मुगलसराय जंक्शन का नाम बदलकर पंडित दीनदयाल उपाध्याय करने पर 800 करोड़ रुपये खर्च होने की बात सामने आई। जानकारों का कहना है कि नाम बदलने की प्रक्रिया देखने में आसान लगती है। दरअसल अधिकृत तौर पर किसी स्टेशन का नाम बदलने का मतलब पूरी दुनिया के दस्तावेजों में बदलाव करना पड़ता है। रेलवे के दस्तावेजों में अब इलाहाबाद वाले सभी दस्तावेज बदले जाएंगे। इन बदलावों पर बड़ी राशि खर्च होही।