DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  प्रयागराज  ›  दहशत से बदल गई दिनचर्या, पीपल से बढ़ गया मोह
प्रयागराज

दहशत से बदल गई दिनचर्या, पीपल से बढ़ गया मोह

हिन्दुस्तान टीम,प्रयागराजPublished By: Newswrap
Thu, 20 May 2021 03:10 PM
दहशत से बदल गई दिनचर्या, पीपल से बढ़ गया मोह

फूलपुर। हिन्दुस्तान संवाद

कोरोना के कारण गांव के लोगों की दिनचर्या बदल गई है। जिस पीपल के पेड़ के नीचे कोई जाता नहीं था, वहां पूरे दिन लोग जमा रहते हैं। ऑक्सीजन लेने के लिए। सुबह लोग पीपल के नीचे बैठ योगाभ्यास भी करने लगे हैं। फूलपुर के ढोकरी गांव में ऐसा ही नजारा देखने को मिला। आठ लोगों की मौत से उपजे डर ने पीपल का महत्व बढ़ा दिया है। फूलपुर नगर पंचायत से सोरांव तहसील मुख्यालय को जोड़ने वाले मार्ग पर है यह गांव।

आठ मजरे हैं और आबादी है तकरीबन 3700। इस गांव में जिन आठ लोगों की मौत हुई, उनमें से चार एक ही परिवार के हैं। यह परिवार कोईरान बस्ती का है। इनमें से दो कोरोना पॉजिटिव थे, बाकी दो में कोरोना की पुष्टि तो नहीं हुई पर लक्षण कोरोना वाले ही थे। इस बस्ती में एक अन्य की मौत भी हुई। मरने वाले तीन लोग ब्राह्मण बस्ती के थे। इन आठ मौतों ने गांव के लोगों को हिलाकर रख दिया है। हर कोई डरा हुआ है। बुधवार सुबह बूंदाबांदी हो रही थी। गांव के कुछ लोग बारिश से बेफिक्र कोरोना का टीका लगवाने के लिए जाते मिले। मुख्य मार्ग पर उच्च प्राथमिक विद्यालय के प्रधानाध्यापक पद से सेवानिवृत्त सुरेश प्रसाद मिश्र से मुलाकात हुई। गांव का हाल पूछने पर बोले, आठ लोगों की मौत से गांव का पूरा माहौल ही बदल गया है। हर कोई डरा हुआ है। लोग कोरोना से बचने के लिए टीका लगवाने के साथ और भी कई उपाय कर रहे हैं। ईश्वर को जो मंजूर है वह तो होकर ही रहेगा हम तो बचाव ही कर सकते हैं। बोले, मैं खुद फूलपुर सीएचसी वैक्सीन की दूसरी डोज लगवाने जा रहा हूं। रास्ते में ही नवनिर्वाचित प्रधान राजू भारतीया मिले। उन्होंने कहा एक माह के भीतर एक-एक कर आठ लोगों का निधन हुआ। गांव पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है।

संबंधित खबरें