Thursday, January 27, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश प्रयागराजओमीक्रोन: सरकार चिंतित, सरकारी दफ्तरों में कर्मचारी बेपरवाह

ओमीक्रोन: सरकार चिंतित, सरकारी दफ्तरों में कर्मचारी बेपरवाह

हिन्दुस्तान टीम,प्रयागराजNewswrap
Thu, 02 Dec 2021 03:41 AM
कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमीक्रोन को लेकर सरकार भले ही गाइडलाइन जारी कर रही हो, लेकिन सरकारी दफ्तरों तक में बेपरवाही दिख रही...
1/ 2कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमीक्रोन को लेकर सरकार भले ही गाइडलाइन जारी कर रही हो, लेकिन सरकारी दफ्तरों तक में बेपरवाही दिख रही...
कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमीक्रोन को लेकर सरकार भले ही गाइडलाइन जारी कर रही हो, लेकिन सरकारी दफ्तरों तक में बेपरवाही दिख रही...
2/ 2कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमीक्रोन को लेकर सरकार भले ही गाइडलाइन जारी कर रही हो, लेकिन सरकारी दफ्तरों तक में बेपरवाही दिख रही...

कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमीक्रोन को लेकर सरकार भले ही गाइडलाइन जारी कर रही हो, लेकिन सरकारी दफ्तरों तक में बेपरवाही दिख रही है। सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क जैसी जरूरी बातें कर्मचारी भूल चुके हैं। ‘हिन्दुस्तान टीम बुधवार को हालात जानने विकास भवन पहुंची, तो नजारा कुछ यूं दिखा।

कैमरा देखते ही लगाया मास्क

दोपहर 1:30 बजे जिला कार्यक्रम अधिकारी कार्यालय में कर्मचारियों की मेज पर फाइलें पड़ी थीं। कर्मचारी अपना काम कर रहे थे। जैसे ही उनकी नजर कैमरे पर पड़ी सभी ने पहले मास्क लगा लिया। इसके बाद काम करने लगे।

पीआरडी कार्यालय में कोई फर्क नहीं

विकास भवन के दूसरे तल पर प्रांतीय रक्षक दल का कार्यालय है। यहां कुछ बुजुर्ग कर्मचारी एक दूसरे को फाइल दे रहे थे। कहीं न सेनेटाइजर दिखाई दिया और न मास्क। यह पूछने पर कि सुरक्षा के इंतजाम नहीं हैं क्या? कर्मचारियों ने बात ही टाल दी।

सहकारिता विभाग में कोई दूरी नहीं

अभी तक पब्लिक एड्रेस सिस्टम पर प्रशासन दो गज दूरी और मास्क है जरूरी की बात कह रहा है। लेकिन दफ्तरों में ही इसका पालन नही है। सहकारिता विभाग में दोपहर 1:45 बजे कर्मचारी बिना मास्क एक दूसरे के करीब खड़े दिखे।

सेनेटाइजर मशीन भी गायब

कोरोना काल में सीडीओ के कमरे के बाहर एक पैनल रखा था। जिसमें सेनेटाइजर लगा था। आने वाले लोग पहले हाथ सेनेटाइज करते थे। लेकिन आज वो पैनल गायब हो चुका था।

कलक्ट्रेट में एक से दूसरे हाथ जा रही थी फाइलें

कलक्ट्रेट के असलहा सेक्शन में वकीलों के साथ आम लोगों की भीड़ थी। फाइलों को कर्मचारी देखते और दूसरे को दे देते। किसी पर महामारी का भय नहीं दिखाई दिया।

अस्पतालों में शुरू हुई तैयारी

अस्पतालों में नए वैरिएंट से निपटने की तैयारी शुरू है। मेडिकल कॉलेज और बेली अस्पताल में मरीजों को भर्ती करने के लिए वार्ड तैयार किया गया है। सीएमओ डॉ. नानक सरन का कहना है कि स्टाफ अलर्ट है।

खतरा बरकार, हो जाएं होशियार

मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. एसपी सिंह का कहना है कि खतरा बरकार है। ऐसे में सतर्क रहने में ही भलाई है। मास्क का इस्तेमाल करें। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन जरूरी है। सेनेटाइजेशन कतई न भूलें। लापरवाही मुश्किल खड़ी कर सकती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने जो गाइडलाइन जारी की है, उसका सख्ती से पालन करना होगा।

epaper

संबंधित खबरें