DA Image
Monday, November 29, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश प्रयागराज शिक्षा और संस्कार का पाठ पढ़ाने की जरूरत : चंपत राय

शिक्षा और संस्कार का पाठ पढ़ाने की जरूरत : चंपत राय

हिन्दुस्तान टीम,प्रयागराजNewswrap
Mon, 01 Nov 2021 03:30 AM
स्वाभिमानी समाज बनाने के लिए बच्चों को शिक्षा, संस्कार और स्वावलंबी का पाठ पढ़ाने की जरूरत है। यह बात रविवार को विश्व हिन्दू परिषद के राष्ट्रीय...
1/ 4स्वाभिमानी समाज बनाने के लिए बच्चों को शिक्षा, संस्कार और स्वावलंबी का पाठ पढ़ाने की जरूरत है। यह बात रविवार को विश्व हिन्दू परिषद के राष्ट्रीय...
स्वाभिमानी समाज बनाने के लिए बच्चों को शिक्षा, संस्कार और स्वावलंबी का पाठ पढ़ाने की जरूरत है। यह बात रविवार को विश्व हिन्दू परिषद के राष्ट्रीय...
2/ 4स्वाभिमानी समाज बनाने के लिए बच्चों को शिक्षा, संस्कार और स्वावलंबी का पाठ पढ़ाने की जरूरत है। यह बात रविवार को विश्व हिन्दू परिषद के राष्ट्रीय...
स्वाभिमानी समाज बनाने के लिए बच्चों को शिक्षा, संस्कार और स्वावलंबी का पाठ पढ़ाने की जरूरत है। यह बात रविवार को विश्व हिन्दू परिषद के राष्ट्रीय...
3/ 4स्वाभिमानी समाज बनाने के लिए बच्चों को शिक्षा, संस्कार और स्वावलंबी का पाठ पढ़ाने की जरूरत है। यह बात रविवार को विश्व हिन्दू परिषद के राष्ट्रीय...
स्वाभिमानी समाज बनाने के लिए बच्चों को शिक्षा, संस्कार और स्वावलंबी का पाठ पढ़ाने की जरूरत है। यह बात रविवार को विश्व हिन्दू परिषद के राष्ट्रीय...
4/ 4स्वाभिमानी समाज बनाने के लिए बच्चों को शिक्षा, संस्कार और स्वावलंबी का पाठ पढ़ाने की जरूरत है। यह बात रविवार को विश्व हिन्दू परिषद के राष्ट्रीय...

स्वाभिमानी समाज बनाने के लिए बच्चों को शिक्षा, संस्कार और स्वावलंबी का पाठ पढ़ाने की जरूरत है। यह बात रविवार को विश्व हिन्दू परिषद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष चंपत राय ने कही। वह औद्योगिक क्षेत्र के चाड़ी गांव में स्थित सामाजिक संस्था श्रीसुमंगलम के नौवें स्थापना दिवस में रविवार को बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे।

उन्होंने कहा कि त्याग को अपनाने से ही समाज आगे बढ़ेगा और मजबूत होगा। अयोध्या में बनने वाले राम मंदिर से हिंदुओं का स्वाभिमान बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि पुराने महत्व के गाने गाने से पेट नहीं भरेगा। वर्तमान परिस्थितियों को बदलने की आवश्यकता है। अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष राधा कांत ओझा ने की।

राज्य मंत्री रविंद्र जायसवाल ने कहा कि अच्छे कार्य करने के संकल्प का परिणाम सदैव सुखद होता है। शिक्षा और संस्कार को सत्य और धर्म प्रधान होना चाहिए, क्योंकि सत्य से न्याय और धर्म से नीति की उत्पत्ति और संचालन होता है। सहायता लेना और देना ही मनुष्य होने का प्रमाण है। उद्योगपति डीके मित्तल, राजेंद्र गोयंका ने भी विचार रखे। प्रदेश के पूर्व उच्च शिक्षा मंत्री नरेंद्र सिंह गौर, डॉ. बीबी अग्रवाल, डॉ. सविता अग्रवाल, संस्था के प्रबंधक अरविंद कुमार, सेवा भारती के जिला अध्यक्ष सुजीत सिंह, अजीत बहादुर, विभाग प्रचारक डॉक्टर पीयूष, विभाग कार्यवाह संजीव ओझा, जिला कार्यवाह अजय कुमार, जिला संघचालक दशरथ, पूर्व प्रमुख करछना राजू सिंह, प्रधान संघ करछना के अध्यक्ष दादू सिंह आदि उपस्थित रहे।

---------

नृत्य की प्रस्तुति से बच्चों ने मोहा मन

इस दौरान बच्चों ने देश भक्ति नृत्य, संगीत समेत अन्य सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति कर मंत्र मुग्ध कर दिया। कार्यक्रम स्थल पर कई प्रकार के स्टाल लगाए गए थे। इसमें लोगों द्वारा खुद बनाए गए बैग, कपड़े इत्यादि सामान था।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें