ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश प्रयागराजमुंबई दुरंतो रोज चले, शताब्दी जल्द मिले

मुंबई दुरंतो रोज चले, शताब्दी जल्द मिले

उत्तर मध्य रेलवे की क्षेत्रीय उपयोगकर्ता परामर्शदात्री समिति (जेडआरयूसीसी) की बैठक में शुक्रवार को कई अहम मुद्​दों पर मंथन हुआ। प्रयागराज से मुंबई...

मुंबई दुरंतो रोज चले, शताब्दी जल्द मिले
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,प्रयागराजSat, 25 Jun 2022 02:20 AM
ऐप पर पढ़ें

उत्तर मध्य रेलवे की क्षेत्रीय उपयोगकर्ता परामर्शदात्री समिति (जेडआरयूसीसी) की बैठक में शुक्रवार को कई अहम मुद्​दों पर मंथन हुआ। प्रयागराज से मुंबई के यात्रियों की बढ़ती संख्या के मद्​देनजर मांग उठी कि मुंबई दुरंतो एक्सप्रेस रोज चलाई जाए। साथ ही मुंबई के लिए एक और ट्रेन की मांग उठी। नई दिल्ली-कानपुर शताब्दी प्रयागराज जंक्शन तक चलाने, वंदे भारत एक्सप्रेस का संचालन प्रयागराज से करने की मांग भी हुई।

उत्तर मध्य रेलवे के महाप्रबंधक प्रमोद कुमार की अध्यक्षता में शुक्रवार को हुई बैठक में कई प्रस्तावों पर चर्चा हुई। होटल कान्हा श्याम में समिति के प्रयागराज, आगरा एवं झांसी मंडल से आए 44 सदस्यों ने क्षेत्र की समस्या बताते हुए सुझाव जीएम के सामने रखे। कौशाम्बी के सांसद विनोद सोनकर ने अग्निपथ योजना को लेकर हुई हिंसा और रेलवे को हुए नुकसान की निंदा की। उन्होंने कहा कि स्टेशनों पर स्टाल के लिए उत्पादों की अनुमोदित सूची सदस्यों को दी जानी चाहिए ताकि वे स्टेशनों का निरीक्षण करते समय इसकी जांच कर सकें। प्रयाग व्यापार मंडल के अध्यक्ष एवं समिति सदस्य विजय अरोरा ने कानपुर शताब्दी का विस्तार प्रयागराज तक करने की मांग की। समिति के सदस्य पदुम जायसवाल ने मुंबई दुरंतो रोज चलाने एवं प्रयागराज जंक्शन पर सियालदह राजधानी, अगरतला राजधानी आदि ट्रेनों के ठहराव का सुझाव दिया। कहा कि जंक्शन महत्वपूर्ण स्टेशन है, लेकिन एक दर्जन से ज्यादा ट्रेनों का ठहराव नहीं है। इस दौरान सदस्यों ने प्रयागराज से लखनऊ के लिए शताब्दी एक्सप्रेस चलाने की भी मांग की। जीएम ने कहा कि एक स्टेशन एक उत्पाद योजना पायलट प्रोजेक्ट के रूप में 25 मार्च को शुरू की गई। अब तक 13 स्टेशनों पर स्टॉल आवंटित हो चुके हैं। इसे अन्य स्टेशनों पर भी लागू किया जाएगा। अवैध वेंडरों की गतिविधियों पर भी अंकुश लगाया गया है। अब तक 4988 के खिलाफ कार्रवाई की जा चुकी है। बेवजह चेन पुलिंग करने वाले 3406 लोगों पर कार्रवाई की जा चुकी है।

अलीगढ़ में हो वंदेभारत का ठहराव, टूंडला में जल्द खुले दूसरा प्रवेश द्वार

बैठक में आगरा, अलीगढ़, टूंडला आदि के कई मुद्​दों पर मंथन हुआ। टूंडला से आए सदस्य श्रीकृष्ण गौतम ने टूंडला स्टेशन पर दूसरा प्रवेश द्वार जल्द खोलने की मांग की। बरहन-एटा रेलखंड पर मेमू ट्रेन चलाने का मुद्​दा उठाया। अलीगढ़ से आए सदस्य सुनील पांडेय और रंजन उपाध्याय ने अलीगढ स्टेशन पर वंदेभारत ट्रेन के ठहराव की मांग की। साथ ही स्टेशन पर यात्री सुविधाएं बढ़ाने की बात कही। सदस्य सुनील सिंह परिहार ने ट्रेनों में डॉक्टर एवं पुलिस की व्यवस्था के साथ झांसी-मैनपुरी ट्रेन की मांग की। आगरा से आए नवल सिंह परमार ने आगरा के विभिन्न स्टेशनों पर पेयजल एवं खानपान की व्यवस्था दुरुस्त करने को कहा। अन्य सदस्यों ने अपने-अपने क्षेत्र से जुड़ा सुझाव दिया।

टूंडला के श्रीकृष्ण गौतम बने राष्ट्रीय रेलवे समिति के सदस्य

बैठक में राष्ट्रीय रेलवे उपयोगकर्ता एवं परामर्शदात्री समिति के सदस्य का चुनाव भी हुआ। इसमें टूंडला के श्रीकृष्ण गौतम सदस्य निर्वाचित हुए। एनसीआर के उप मुख्य कार्मिक अधिकारी एमके कुलश्रेष्ठ ने चुनाव कराया। मौजूद 44 सदस्यों ने तीन सदस्य प्रदीप तिवारी, सुनील सिंह परिहार एवं श्रीकृष्ण गौतम का चयन किया। बाद में मतों के आधार पर श्रीकृष्ण गौतम को सदस्य चुना। टूंडला निवासी श्रीकृष्ण गौतम कोल इंडिया से सेवानिवृत्त हैं। राष्ट्रीय समिति का सदस्य बनने के बाद श्रीकृष्ण गौतम ने बताया कि जेडआरयूसीसी सदस्य के रूप में यह उनका दूसरा कार्यकाल है।

ये मुद्दे भी उठे

स्टेशनों पर ओवरचार्जिंग कर महंगे सामान बेचने पर रोक लगे।

ट्रेनों में यात्रियों की सुरक्षा, सामान की सुरक्षा के लिए कदम उठाए।

छोटे स्टेशनों पर भी कुछ ट्रेनों का ठहराव करें ताकि ग्रामीण जनता को राहत मिले।

अवैध रूप से ट्रेनों में सामान बेचने वाले वेंडरों पर रोक लगाई जाए।

महानगरों के साथ ही छोटे स्टेशनों पर सुविधाएं बढाई जाएं।

स्टेशनों पर बिकने वाले सामान की रेट लिस्ट सदस्यों को दें, जिससे चेकिंग हो सके।

रेलवे के नुकसान की निंदा

हर किसी ने सेना में अग्निवीरों की भर्ती के ऐलान के बाद हुए बवाल की निंदा की। रेलवे को हुए बड़े नुकसान को लेकर चिंता जताई गई। कहा गया कि शांतिपूर्ण और संवैधानिक तरीके से अपनी बात रखना गलत नहीं है लेकिन ट्रेनों, स्टेशनों को आग लगाना ठीक नहीं है।

epaper