DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  प्रयागराज  ›  श्मशान घाट पर दफन शव का महापौर ने किया दाह संस्कार
प्रयागराज

श्मशान घाट पर दफन शव का महापौर ने किया दाह संस्कार

हिन्दुस्तान टीम,प्रयागराजPublished By: Newswrap
Thu, 17 Jun 2021 08:50 PM
श्मशान घाट पर दफन शव का महापौर ने किया दाह संस्कार

प्रयागराज। वरिष्ठ संवाददाता

महापौर अभिलाषा गुप्ता नंदी ने फाफामऊ श्मशान घाट पर दफन शव का अंतिम संस्कार किया। महापौर ने चिता पर रखे शव पर रामनामी चादर ओढ़ाई। शव पर चंदन की लकड़ी, देशी घी, कपूर और धूप चढ़ाया। इसके बाद वैदिक मंत्रोच्चार के बीच शव को मुखाग्नि दी।

महापौर के पहुंचने से पहले श्मशान घाट पर कटान से बाहर आए 25वें शव को निकाला गया। चिता सजाकर शव रखा गया तो बारिश हो रही थी। बारिश से बचाने के लिए लकड़ी और शव को प्लास्टिक से ढका गया। महापौर नाव से पहुंचीं और श्मशान घाट पर दफन शवों के अंत्येष्टि की पूरी जानकारी ली। इसके बाद महापौर ने अंतिम संस्कार करने की इच्छा जताई। अंतिम संस्कार के लिए पूर्व की भांति वहां सारी व्यवस्था थी।

महापौर ने दाह संस्कार शुरू किया तो जोनल अधिकारी मंत्रोच्चार कर रहे थे। हिन्दू रीति के अनुसार महापौर ने शव को अग्निदेव के हवाले किया। इससे पहले जोनल अधिकारी नीरज सिंह के आग्रह पर महापौर दोपहर तीन बजे श्मशान घाट के लिए निकलीं तो बारिश हो रही थी। महावीरपुरी घाट से नाव पर महापौर श्मशान घाट पहुंचीं। श्मशानघाट पर निरीक्षण के दौरान महापौर ने कगार पर हो रही कटान को देखा और जोनल अधिकारी से जानकारी प्राप्त की।

बहू-बेटी के नाते अंतिम संस्कार करने का फर्ज बनता है : महापौर

फाफामऊ श्मशान घाट पर दफन शव का दाह संस्कार करने के बाद महापौर अभिलाषा गुप्ता नंदी ने कहा कि यह हमारी जिम्मेदारी है। श्मशान घाट में दफन शव अपने बीच के थे। किसी की भी अंतिम यात्रा को सम्मान मिलना चाहिए। समय बदल गया है। जहां बेटे नहीं हैं, वहां बेटियां सारे काम कर रही हैं। अपने थे तो इनको सम्मान देना बहू-बेटी का भी फर्ज बनता है। नगर निगम निगरानी समिति की अध्यक्ष होने के नाते मेरी जिम्मेदारी और बढ़ जाती है।

नेक काम के लिए सभी से आगे आने का किया आह्वान

फाफामऊ श्मशान घाट पर गुरुवार को शव का दाह संस्कार करने के बाद महापौर अभिलाषा गुप्ता नंदी इस काम के लिए शहर के लोगों और संगठनों से आगे आने का आह्वान किया। महापौर ने कहा कि सम्मान के साथ अंतिम यात्रा का अधिकार सबको है। नगर निगम नेक काम कर रहा है। निगम के अधिकारी और कर्मचारियों को प्रोत्साहित करने की आवश्यकता है। इसके लिए किसी को पैसे देने की जरूरत नहीं है। लोग साथ आएंगे तो अधिकारी-कर्मचारियों का मनोबल बढ़ेगा। दफन शवों का हिन्दू रीति के अनुसार दाह संस्कार कराने के लिए महापौर ने जोनल अधिकारी नीरज सिंह की सराहना की।

संबंधित खबरें