DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  प्रयागराज  ›  माफी मांगकर खत्म हुआ गुरु शिष्य विवाद
प्रयागराज

माफी मांगकर खत्म हुआ गुरु शिष्य विवाद

हिन्दुस्तान टीम,प्रयागराजPublished By: Newswrap
Wed, 26 May 2021 04:10 PM
निरंजनी अखाड़े से निष्कासित संत योगगुरु आनंद गिरि और अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरि के बीच विवाद खत्म हो गया। पूरे प्रकरण पर स्वामी आनंद...
1 / 2निरंजनी अखाड़े से निष्कासित संत योगगुरु आनंद गिरि और अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरि के बीच विवाद खत्म हो गया। पूरे प्रकरण पर स्वामी आनंद...
निरंजनी अखाड़े से निष्कासित संत योगगुरु आनंद गिरि और अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरि के बीच विवाद खत्म हो गया। पूरे प्रकरण पर स्वामी आनंद...
2 / 2निरंजनी अखाड़े से निष्कासित संत योगगुरु आनंद गिरि और अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरि के बीच विवाद खत्म हो गया। पूरे प्रकरण पर स्वामी आनंद...

प्रयागराज वरिष्ठ संवाददाता

निरंजनी अखाड़े से निष्कासित संत योगगुरु आनंद गिरि और अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरि के बीच विवाद खत्म हो गया। पूरे प्रकरण पर स्वामी आनंद गिरि ने बिना शर्त अपने गुरु महंत नरेंद्र गिरि और निरंजनी अखाड़े के पंच परमेश्वर से माफी मांगी।

निष्कासन के बाद मीडिया में दिए गए बयान वापस ले लिए। इसके बाद महंत नरेन्द्र गिरि ने उन्हें क्षमा कर, गुरु पूर्णिमा के दिन हनुमान मंदिर व बाघम्बरी मठ में प्रवेश की अनुमति दी है। इस बीच महंत नरेंद्र गिरि ने भी अपने बयान वापस लिए हैं। महंत नरेंद्र गिरि का कहना है कि गुरु पूर्णिमा के दिन गुरु की पूजा शिष्य का अधिकार होता है। आनंद गिरि उनके शिष्य हैं, इसलिए वो पूजा कर सकते हैं। दोनों पक्षों के बयान आने के बाद बीते 14 मई से चल रहा गतिरोध अब थमता दिख रहा है। 14 मई को निरंजनी अखाड़े के पंच परमेश्वर ने हरिद्वार में बैठक कर स्वामी आनंद गिरि को निष्कासित कर दिया था।।योगगुरु पर आरोप था कि वो अपने परिजनों से संबंध रखते हैं और धन का दुरुपयोग करते हैं। जिस पर अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि ने आरोप सही बताकर कहा था कि स्वामी आनंद गिरि को एक महीने पूर्व ही मठ से निष्कासित कर दिया था। तभी से गुरु शिष्य ने एक दूसरे पर गंभीर आरोप लगाए। मामले पर अखाड़ा परिषद ने गंभीर रुख अख्तियार करना शुरु किया तब दोनों पक्ष शांत होने लगे। बुधवार को लखनऊ में गुरु-शिष्य में समझौता हुआ है।

संबंधित खबरें